नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। विजय हजारे ट्राफी 2021 के फाइनल मैच में हिमाचल प्रदेश ने चैंपियन की तरह प्रदर्शन किया और तमिलनाडु जैसी मजबूत टीम को 11 रन से हरा दिया। इस जीत के साथ ही हिमाचल प्रदेश ने पहली बार रिषी धवन की कप्तानी में विजय हजारे ट्राफी का खिताब जीतकर इतिहास रच दिया तो वहीं विजय शंकर की कप्तानी में तमिलनाडु को उप-विजेता बनकर संतोष करना पड़ा। मैच के अंत में खराब लाइट की वजह से वीजेडी मेथड के जरिए मुकाबले का फैसला किया गया और हिमाचल प्रदेश को विजेता घोषित कर दिया गया। हिमाचल की जीत में टीम के ओपनर बल्लेबाज शुभम अरोड़ा का बड़ा योगदान रहा जिन्होंने नाबाद 136 रन की पारी खेली। 

हिमाचल पहली बार बनी चैंपियन

इस मैच में तमिलनाडु ने पहले बल्लेबाजी करते हुए दिनेश कार्तिक की तूफानी शतकीय पारी के दम पर 49.4 ओवर में 314 रन बनाए। दिनेश कार्तिक ने 103 गेंदों पर 7 छक्के व 8 चौकों की मदद से 116 रन बनाए तो वहीं बाबा इंद्रजीत ने 80 रन की पारी खेली। शाहरुख खान ने भी 21 गेंदों पर 3 छक्के व इतने ही चौकों की मदद से 42 रन की पारी खेली। कप्तान विजय शंकर ने टीम के लिए 22 रन के योगदान दिया। पहली पारी में हिमाचल प्रदेश की तरफ से पंकज जयसवाल ने 9.4 ओवर में 59 रन देकर 4 विकेट लिए जबकि कप्तान रिषी धवन ने 10 ओवर में 62 रन देकर 3 विकेट चटकाए। 

हिमाचल प्रदेश को जीत के लिए 315 रन का लक्ष्य मिला था और इस टीम ने 47.3 ओवर में 4 विकेट पर 299 रन बनाए, लेकिन खराब रौशनी की वजह से मैच का फैसला वीजेडी प्रणाली के जरिए किया गया और इस टीम को 11 रन से जीत मिली। जब टीम को जीत मिली उस वक्त ओपनर बल्लेबाज शुभम अरोड़ा 136 रन बनाकर जबकि कप्तान रिषी धवन 42 रन बनाकर खेल रहे थे और टीम जीतने की स्थिति में थी। शुभम ने 131 गेंदों का सामना करते हुए 1 छक्का व 13 चौकों की मदद से ये नाबाद पारी खेली। उनके अलावा इस टीम के लिए अमित कुमार ने भी 74 रन का अहम योगदान दिया। 

Edited By: Sanjay Savern