Move to Jagran APP

भारतीय धरती पर स्मिथ का कमाल, कुछ ऐसे माइकल क्लार्क को छोड़ा पीछे

स्टीव स्मिथ भारतीय धरती पर ऐसा करने वाले पहले कंगारू कप्तान बने।

By Sanjay SavernEdited By: Published: Fri, 17 Mar 2017 02:17 PM (IST)Updated: Fri, 17 Mar 2017 02:52 PM (IST)
भारतीय धरती पर स्मिथ का कमाल, कुछ ऐसे माइकल क्लार्क को छोड़ा पीछे

नई दिल्ली। रांची टेस्ट में कंगारू कप्तान स्टीव स्मिथ ने अपने बल्ले का धमाल दिखाया। तीसरे टेस्ट की पहली पारी में स्मिथ ने अपनी धमाकेदार पारी के दम पर कई रिकॉर्ड्स अपने नाम किए और दिखा दिया कि आखिर क्यों उन्हें दुनिया के बेहतरीन बल्लेबाजों में शुमार किया जाता है। 

स्मिथ की नाबाद शतकीय पारी

स्टीव स्मिथ ने पहली पारी में 178 रनों की नाबाद पारी खेली। स्मिथ ने अपनी पारी में कुल 361 गेंदों का सामना किया। अपनी पारी में उन्होंने कुल 17 चौके लगाए और उनका स्ट्राइक रेट 49.30 का रहा। 

ऐसा करने वाले पहले ऑस्ट्रेलियाई कप्तान बने

स्टीव स्मिथ भारतीय धरती पर भारत के खिलाफ टेस्ट मैच में सबसे बड़ी पारी (178 रन) खेलने वाले कप्तान बन गए हैं। स्मिथ से पहले भारत में भारत के खिलाफ टेस्ट मैच में सबसे बड़ी पारी खेलने का रिकॉर्ड पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान माइकल क्लार्क के नाम पर था। क्लार्क ने वर्ष 2012-13 में चेन्नई में 130 रनों की पारी खेली थी। अब स्मिथ ने क्लार्क को पीछे छोड़ दिया है और एक नया रिकॉर्ड कायम कर दिया।

इस मामले में दुनिया के पांचवें कप्तान बने स्मिथ

स्टीव स्मिथ अब दुनिया के पांचवें ऐसे कप्तान बन गए हैं जिन्होंने भारतीय धरती पर भारत के खिलाफ टेस्ट में सबसे बड़ी पारी खेली। एक नजर डालते हैं टॉप के पांच ऐसे कप्तानों पर जिन्होंने भारत में टेस्ट में सबसे बड़ी पारी खेली।

क्लाइव लॉयड (वेस्टइंडीज) - नाबाद 242 रन- (मुंबई, 1975)

एलिएस्टर कुक (इंग्लैंड)- 190 रन- (कोलकाता, 2012)

कालीचरण (वेस्टइंडीज)- 187 रन- (मुंबई, 1978)

इंजमाम-उल-हक (पाकिस्तान)- 184 रन (बैंगलुरु, 2005)

स्टीव स्मिथ (ऑस्ट्रेलिया)- नाबाद 178 रन- (रांची, 2017)

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.