नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। भारतीय क्रिकेट टीम के अनुभवी स्पिनर आर अश्विन को मैदान पर उनके साथ होने वाले विवादों की वजह से जाना जाता है। कानपुर में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले जा रहे दो मैचों की सीरीज के पहले मुकाबले में भी एक विवाद उनके साथ जुड़ गया। मैच के तीसरे दिन वह अंपायर के साथ उलझ गए वो भी एक बार नहीं बल्कि कई बार। कप्तान अजिंक्य रहाणे की कोशिश के बाद जब मामला नहीं सुलझा तो कोच राहुल द्रविड़ को बीच में आना पड़ा।

भारतीय टीम के स्पिनर अश्विन मैच के तीसरे दिन बार-बार अपनी गेंदबाजी की वजह से अंपायर नितिन मेनन को परेशान करते नजर आए। दरअसल अश्विन गेंदबाजी खत्म करने के बाद जब उनके सामने से निकल कहे थे तो नितिन के परेशानी हो रही थी। वहीं सामने से गुजरने की वजह से वह गेंद को सही से देख नहीं पा रहे थे और किसी तरह की अपील होने पर फैसला देने में सक्षम नहीं थे।

किस वजह से हुआ विवाद

अश्विन ने तीसरे दिन जब गेंदबाजी शुरू की तो फोला थ्रु में वह डेंजर एरिया के करीब पहुंच रहे थे। अंपायर का मानना था कि अश्विन गेंदबाजी करने के बाद उस एरिया में कदम रख रहे हैं। अंपायर ने एक दो नहीं बल्कि गेंदबाजी के दौरान कई बार उनको रोका। अश्विन को अच्छे के पता था कि वह अपनी हद में हैं और नियम के मुताबिक चल रहे हैं। उन्होंने अंपायर नितिन को समझाने की कोशिश की लेकिन मामला नहीं सुलझा। कप्तान रहाणे भी बहस के बीच में आए पर अंपायर नहीं माने। अंपायर का कहना था कि अगर उनके सामने वह आएंगे तो फैसला देने में उनको मुश्किल होगी।

कोच द्रविड़ ने मैच रेफरी श्रीनाथ के की मुलाकात

जब मैदान पर ये सब चल रहा था और मामला गंभीर हो गया। बार बार अश्विन को अंपायर नितिन रोक रहे थे। यह सब देखते हुए कोच द्रविड़ ने सीधा जाकर मैच रेफरी जवगल श्रीनाथ से जाकर मुलाकात की। रेफरी से बात करने के बाद जब वह वापस लौट रहे थे को खुश थे। इसके बाद अंपायर और अश्विन के बीच कोई बात नहीं हुई।

Edited By: Viplove Kumar