नई दिल्ली, जेएनएन। Vijay Hazare Trophy 2021: दाएं हाथ के बल्लेबाज पृथ्वी शॉ लंबे समय से अच्छी फॉर्म का इंतजार कर रहे थे। फॉर्म में वापसी का इंतजार पृथ्वी शॉ को इसलिए भी था, क्योंकि उनको भारतीय टेस्ट टीम से बाहर कर दिया गया था। यहां तक कि पिछले साल आइपीएल में भी वे रन नहीं बना पाए थे और फिर ऑस्ट्रेलिया दौरे पर एकमात्र टेस्ट मैच खेलने के बाद उनको प्लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया गया था। अब पृथ्वी शॉ ने विजय हजारे ट्रॉफी में दोहरा शतक ठोककर कमाल कर दिया है। 

दाएं हाथ के बल्लेबाज पृथ्वी शॉ ने विजय हजारे ट्रॉफी के एलीट ग्रुप डी के राउंड थ्री के मैच में पुडुचेरी के खिलाफ 142 गेंदों में 27 चौके और 4 छक्कों की मदद से दोहरा शतक ठोका। इस दौरान उनका स्ट्राइकरेट 140.85 का था। पृथ्वी शॉ विजय हजारे ट्रॉफी के इतिहास में दोहरा शतक जड़ने वाले चौथे क्रिकेटर हैं, जबकि मुंबई के लिए वे ऐसा करने वाले दूसरे खिलाड़ी हैं। उनसे पहले मुंबई की टीम के लिए 2019 के सत्र में झारखंड के खिलाफ यशस्वी जायसवाल ने दोहरा शतक जड़ा था। 

बतौर कप्तान विजय हजारे ट्रॉफी में दोहरा शतक जड़ने वाले पृथ्वी शॉ पहले कप्तान हैं, जबकि इस टूर्नामेंट के इतिहास में सबसे बड़ा स्कोर भी अब उन्हीं के नाम दर्ज हो गया है। पृथ्वी शॉ ने इस मैच में 227 रन बनाए। उनसे पहले संजू सैसमन ने विजय हजारे ट्रॉफी में 212 रन की पारी खेली थी। ये सर्वाधिक स्कोर करीब दो साल रहा, लेकिन अब इस पर पृथ्वी शॉ ने अपना नाम दर्ज करा लिया है।

विजय हजारे ट्रॉफी में अब तक दोहरा शतक जड़ने वाले बल्लेबाजों की सूची में संजू सैसमन, यशस्वी जायसवाल, के कौशल और पृथ्वी शॉ का नाम शामिल हो गया है। वनडे फॉर्मेट में दोहरा शतक जड़ने वाले वे सातवें क्रिकेटर बन गए हैं। उनसे पहले सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग और रोहित शर्मा ने इंटरनेशनल क्रिकेट में दोहरा शतक जड़ा है, जबकि संजू सैमसन, यशस्वी जायसवाल और के कौशल ने विजय हजारे ट्रॉफी में दोहरा शतक जड़ने का कमाल किया है। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप