नई दिल्ली, जेएनएन। टीम इंडिया को अब चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में रविवार को पड़ोसी पाकिस्तान से भिड़ना है। दोनों टीमें हर हाल में ये मैच जीतना चाहेंगी। उस दिन हर शॉट, हर गेंद के साथ दर्शकों की धड़कने बढ़ेंगी। ऐसा सिर्फ और सिर्फ भारत-पाकिस्तान के मैच में हो सकता है।

इसे टूर्नामेंट का सबसे बड़ा मुकाबला माना जा रहा है, जिसे मैदान पर और मैदान से बाहर कई दर्शक देखेंगे। आइए जानते हैं दोनों टीमों के बीच हुए दिलचस्प मुकाबलों के बारे में, जिसने दर्शकों की सांसें रोक दी थीं। 

1- 2003 विश्व कप (सेंचुरियन, दक्षिण अफ्रीका)

पाकिस्तान ने इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत को 274 रनों का लक्ष्य दिया। सईद अनवर ने 101 रनों की पारी खेली। भारत जब लक्ष्य का पीछा करने उतरा तो शोएब अख्तर की गेंद पर सचिन ने बैकवर्ड प्वाइंट के ऊपर छक्का जड़ दिया। भारत-पाकिस्तान के क्रिकेट प्रशंसकों के लिए यह दृश्य कभी भूलने वाले नहीं थे। तेंदुलकर ने 98 रनों की पारी खेली। उनके आउट होने के बाद राहुल द्रविड़ और युवराज सिंह ने भारत को 46वें ओवर में जीत दिलाई।

2- 2004 चैंपियंस ट्रॉफी (बर्मिंघम, इंग्लैंड)

इस मैच में जो टीम जीतती वो आगे खेलती और हारने वाली टीम बाहर हो जाती। भारत की शुरुआत बेहद खराब रही और 73 रन पर टीम के पांच बल्लेबाज पवेलियन लौट चुके थे। इसके बाद राहुल द्रविड़ और अजीत अगरकर ने भारत को 200 रनों तक पहुंचाया। 201 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी पाकिस्तान की टीम को शुरुआती झटके लगने से लो स्कोरिंग मैच दिलचस्प बन गया। यूसुफ योहाना और इंजमाम उल हक की 75 रन की साझेदारी से पाकिस्तान ने आखिरी ओवर में भारत को हरा दिया।

3- 2007 टी-20 विश्व कप (डरबन, दक्षिण अफ्रीका)

पहली बार दोनों टीमें टी-20 मैच में आमने-सामने थीं। रॉबिन उथप्पा के अर्धशतक और धौनी की आखिरी ओवरों में तेज बल्लेबाजी की मदद से भारत ने पाकिस्तान को 142 रनों का लक्ष्य दिया था। लक्ष्य का पीछा करने उतरी पाकिस्तान की टीम लगातार विकेट खोती रही, लेकिन मिस्बाह उल हक के अर्धशतक की मदद से पाकिस्तान का स्कोर भारत के बराबर रहा। आखिरी गेंद पर मिस्बाह के रन आउट होने के कारण मैच ड्रॉ हो गया। इस मैच का फैसला बॉल आउट के जरिए हुआ। हरभजन सिंह, उथप्पा और सहवाग ने विकेट पर गेंद मारकर भारत को जीत दिलाई।

4- 2007 टी-20 विश्व कप फाइनल (जोहानिसबर्ग, दक्षिण अफ्रीका)

भारत-पाकिस्तान के बीच यह संभवत: अब तक का सबसे रोमांचक मैच है। भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए गंभीर के 75 रनों की बदौलत पाक को 157 रनों का लक्ष्य दिया। पाकिस्तान की शुरुआत काफी खराब रही और लगातार विकेट गिरते रहे। इमरान नजीर और यूनुस खान ने 33 और 24 रन की पारी खेली और पाकिस्तान की पारी संभाली। मिस्बाह उल हक ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान को मैच में बनाए रखा। 

मैच का रोमांच तब आसमान पर था जब आखिरी ओवर में पाकिस्तान को जीत के लिए 13 रन चाहिए थे और इस वक्त स्टेडियम में मौजूद दर्शकों की चिंता देखने लायक थी। यही वक्तथा जब धौनी ने जोगिंदर शर्मा को गेंद थमाई तो सबको आश्चर्य हुआ। क्योंकि उन्होंने अपने ओवरों में बहुत रन दिए थे। आखिरी चार गेंद पर पाकिस्तान को छह रन चाहिए थे। मिस्बाह ने शॉर्ट लेग पर खेलना चाहा और एस श्रीसंत को कैच थमा बैठे। इस तरह भारत ने पहला टी-20 विश्व कप खिताब जीत लिया।

क्रिकेट की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल जगत की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Bharat Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप