नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय टीम को वेस्टइंडीज के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज के पहले मुकाबले में करारी हार मिली। इसके पीछे टीम की अनुभवहीन तेज गेंदबाजी आक्रमण रही। टीम इंडिया में इस वक्त अनुभव के मामले में सिर्फ और सिर्फ मोहम्मद शमी के भरोसे हैं। चेन्नई में जो दो तेज गेंदबाज खेल रहे थे उनके पास महज 1 वनडे खेलने का अनुभव था।

भारत को चेन्नई वनडे में वेस्टइंडीज ने धमाकेदार बल्लेबाजी के दम पर 8 विकेट से हराया। टीम इंडिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 287 रन बनाए थे। इस स्कोर को धीमी पिच के मुताबिक जीत के लिए काफी माना जा रहा था लेकिन अनुभवहीन तेज गेंदबाजी आक्रमण की वजह से भारत को हार मिली। वेस्टइंडीज के मैच में सिर्फ दो विकेट गिरे और 47.5 ओवर में उसने 291 रन बनाकर मुकाबला 8 विकेट से अपने नाम कर लिया।

 

भारत के पास नहीं अनुभवी तेज गेंदबाज

चेन्नई में खेले गए पहले वनडे में भरतीय प्लेइंग इलेवन में जो तीन तेज गेंदबाज शामिल किए गए थे उसमें सिर्फ मोहम्मद शमी के पास ही इंटरनेशनल क्रिकेट का लंबा अनुभव था। टीम में टी20 स्पेशलिस्ट दीपक चाहर को शामिल किया गया था जिनके पास महज 1 वनडे खेलने का अनुभव था। वहीं दूसरे तेज गेंदबाजी विकल्प शिवम दुबे डेब्यू कर रहे थे।

मोहम्मद शमी अकेले अनुभवी गेंदबाज

शमी ने भारत की तरफ से अब तक कुल 71 वनडे मैच खेले हैं। इसमें उन्होंने कुल 132 विकेट चटकाए हैं। भारत की तरफ से वेस्टइंडीज के खिलाफ सिर्फ और सिर्फ शमी ही अनुभवी गेंदबाजी थे। इसके अलवा चाहर ने 1 वनडे खेलकर 1 विकेट हासिल किया था। वहीं शिवम दुबे ने तो चेन्नई वनडे के साथ ही अपना वनडे इंटरनेशनल डेब्यू किया।

तेज गेंदबाजों ने लुटाए 173 रन

पहले वनडे में भारत की हार खराब गेंदबाजी की वजह से हुई। इस मैच में शमी, दीपक चाहर और शिवम दुबे ने मिलकर कुल 173 रन खर्च किए और 2 विकेट हासिल किया। चाहर ने 10 ओवर में 48 रन देकर 1 विकेट अपने नाम किया जबकि शमी ने 9 ओवर की गेंदबाजी में 57 रन लुटाए। शिवम दुबे के विकटों का खाता नहीं खुल पाया और 7.5 ओवर में उन्होंने कुल 68 रन दिए।

Posted By: Viplove Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस