नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय टीम ने ब्रिसबेन में खेले जा रहे सीरीज के चौथे टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी 369 रन पर समेट दी है। इस मैच में भारत की तरफ से टी नटराजन और वॉशिंग्टन सुंदर ने टेस्ट डेब्यू किया। टॉस जीतकर मेजबान टीम ने पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया था। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहली पारी में दोनों ही गेंदबाजों ने 3-3 विकेट हासिल किया जबकि शार्दुल ठाकुर ने भी तीन बल्लेबाजों को आउट किया।

भारतीय टीम ने ब्रिसबेन टेस्ट के दूसरे दिन ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी 369 रन पर समेट कर बड़ी सफलता हासिल की। दूसरे दिन में 274 रन पर 5 विकेट से आगे खेलते हुए मेजबान टीम ने 95 रन और जोड़े। पहली पारी में तीन भारतीय गेंदबाजों ने तीन-तीन विकेट हासिल किया जिसमें से दो गेंदबाज पहला मैच खेल रहे थे। भारतीय क्रिकेट के इतिहास में 71 साल बाद ऐसा हुआ जब दो डेब्यू कर रहे गेंदबाजों ने 3-3 विकेट चटकाए।

1949 के बाद पहली बार हुआ ऐसा

भारतीय टीम के दो गेंदबाजों ने पिछली बार साल 1949 में डेब्यू टेस्ट में तीन-तीन विकेट हासिल किए थे। कोलकाता टेस्ट में वेस्टइंडीज के खिलाफ मंटू बनर्जी और गुलाम अहमद ने टेस्ट डेब्यू करते हुए 3-3 विकेट चटकाए थे। 2021 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ डेब्यू टेस्ट में टी नटराजन और वॉशिंग्टन सुंदर ने 3-3 विकेट हासिल किए। नटराजन ने 24.3 ओवर में 78 रन देकर 3 विकेट अपने नाम किए जबकि सुंदर ने 31 ओवर में 89 रन देते हुए तीन बल्लेबाजों को आउट किया।

नेट गेंदबाज को टेस्ट डेब्यू का मौका

भारतीय टीम के लिए टेस्ट डेब्यू करने वाले नटराजन और सुंदर को शुरुआती टेस्ट टीम में जगह नहीं दी गई थी। टी20 सीरीज खेलने के बाद दोनों ही गेंदबाजों को नेट्स में गेंदबाजी करने के लिए रोका गया था। उमेश यादव के चोटिल होने के बाद नटराजन को टीम में शामिल किया गया जबकि अश्विन की जगह सुंदर टेस्ट टीम में जगह बनाने में कामयाब हुए। 

 

Ind-vs-End

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप