मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली, जेएनएन। नागपुर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे वनडे मैच में महेंद्र सिंह धौनी को बल्लेबाजी के लिए सातवें नंबर पर भेजा गया। नागपुर में इस मैच से पहले तक धौनी का रिकॉर्ड काफी शानदार रहा था लेकिन इस मैच में उन्होंने निराश किया और गोल्डन डक का शिकार बन गए। ये पहला मौका था जब नागपुर का पिच धौनी के लिए लकी साबित नहीं हुआ। 

धौनी हुए शून्य पर आउट

नागपुर में धौनी को बल्लेबाजी के लिए सातवें नंबर पर भेजा गया और टीम को उनकी बेहद जरूरत थी, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। धौनी बल्लेबाजी के लिए आए और एडम जंपा की गेंद पर वो अपना कैच पहले स्लीप पर खड़े उस्मान ख्वाजा के हाथों में थमा बैठे। धौनी के वनडे करियर का ये पांचवां मौका था जब वो गोल्डन डक का शिकार हुए। 340 वनडे मैचों में धौनी इस मैच से पहले यानी वर्ष 2010 में विजाग में गोल्डन डक का शिकार हुए थे। इस मैच में धौनी को होस्टिंग्स ने क्लीन बोल्ड किया था। 

वनडे करियर का पहले ही मैच में गोल्डन डक हुए थे धौनी

महेंद्र सिंह धौनी ने अपने वनडे करियर की शुरुआत बांग्लादेश के खिलाफ वर्ष 2004 में चिटगोंग में किया था। अपने पदार्पण वनडे मैच में ही धौनी पहली ही गेंद पर आउट हो गए थे। इस मैच में वो दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से रन आउट हो गए थे। उस वक्त टीम के कप्तान सौरव गांगुली थे। आइए एक नजर डालते हैं कि धौनी कब-कब वनडे मैच में गोल्डन डक हुए। 

Golden ducks for MS Dhoni in ODIs:

vs Ban, Chittagong, 2004 - Debut

vs SL, Ahmedabad, 2005

vs SL, Port of Spain, 2007

vs Aus, Vizag, 2010

vs Aus, NAGPUR, 2019 *

नागपुर में निराश किया धौनी ने

इस मैच से पहले तक धौनी के लिए नागपुर का मैदान काफी लकी रहा था। उन्होंने इस मैदान पर खूब रन बनाए थे। धौनी ने विदर्भ क्रिकेट ग्राउंड पर चार पारियों में कुल 268 रन बनाए थे। इसमें उनके नाम पर दो शतक भी है। विदर्भ क्रिकेट ग्राउंड पर धौनी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वर्ष 2009 में शतक भी लगाया था, लेकिन इस मैच में धौनी ने निराश किया और उनका बेहतरीन प्रदर्शन देखने को नहीं मिला। वो खाता भी नहीं खोल सके और कैच आउट हो गए। 

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप