दुबई, एएनआई।  ICC World Test Championship - हाल ही में आपने 50 ओवरों के क्रिकेट वर्ल्डकप का भरपूर लुत्फ लिया है। अगले साल यानि 2020 में टी20 वर्ल्डकप का रोमांच भी देखने लायक होगा। बात क्रिकेट के रोमांच की हो तो टेस्ट क्रिकेट पीछे छूटता दिखता है, लेकिन अब आईसीसी ने टेस्ट क्रिकेट में भी रोमांच भरने के लिए वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप की घोषणा कर दी है। यानि अब दुनियाभर के क्रिकेटर टेस्ट में बादशाहत के लिए भी आपस में भिड़ते दिखेंगे।

हाल में हुए 50 ओवरों के क्रिकेट वर्ल्डकप में दुनियाभर की टीमों ने एक-दूसरे को कड़ी टक्कर दी और अंत में मेजबान इंग्लैंड को विजेता घोषित किया गया। हालांकि, पूरा वर्ल्डकप ही रोमांचक था, लेकिन फाइनल का टाई होना और फिर सुपरओवर में भी किसी टीम के न जीत पाने से वह मैच रोमांच की पराकाष्ठा तक पहुंच गया था। भारतीय टीम ने भी इस वर्ल्डकप में शानदार प्रदर्शन किया, लेकिन सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से मात खाकर टीम खिताबी दौड़ से बाहर हो गई थी। अब सभी टीमों के पास खुद को टेस्ट में बेस्ट साबित करने का सुनहरा अवसर होगा। अगले दो साल में दौरान टेस्ट में बेस्ट का फैसला होगा, जब सभी टीमें आपस में एक-दूसरे के साथ टेस्ट मैच खेलेंगी।

भारतीय कप्तान विराट कोहली का कहना है, 'हम क्रिकेट के इस सबसे लंबे फॉर्मेट में आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप का बड़ी बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। टेस्ट क्रिकेट हमेशा ही काफी चैलेंजिंग होती है और यह परंपरागत फॉर्मेट खिलाड़ियों को संतुष्टी भी प्रदान करता है। टीम इंडिया ने पिछले कुछ सालों के दौरान टेस्ट में अच्छा प्रदर्शन किया है और हम इस चैम्पियनशिप में अपनी संभावनाओं को अच्छे से प्रदर्शित करेंगे।'

इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच एक अगस्त से शुरू हो रही एशेज सीरीज के साथ टेस्ट चैम्पियनशिप की शुरुआत होगी। चैम्पियनशिप में चोटी की नौ टीमें हिस्सा लेंगी। इसमें ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, इंग्लैंड, भारत, न्यूजीलैंड, पाकिस्तान, दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका और वेस्टइंडीज शामिल हैं।

इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन कहते हैं, 'टेस्ट क्रिकेट इस खेल का सर्वोच्च स्तर है। यह क्रिकेट के हर फॉर्म का जनक है और इस खेल से जुड़ा हर खिलाड़ी अपने देश के लिए टेस्ट क्रिकेट खेलना और अच्छा प्रदर्शन करना चहता है। आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप इस खेल के लिए एक और बेहतरीन कदम है। इससे हर टेस्ट सीरीज का महत्व और भी बढ़ जाएगा। हालांकि, हर टेस्ट मैच का अपना महत्व होता है, लेकिन अब उसका महत्व और भी बढ़ जाएगा।'

ऑस्ट्रेलिया के टेस्ट कप्तान टिम पेन ने भी आईसीसी के इस फैसले पर खुशी जाहिर की है। उन्होंने कहा, 'यह बहुत ही अच्छा कदम है। हमें टेस्ट क्रिकेट खेलना अच्छा लगता है। यह हमारे लिए खेल का सर्वोच्च स्तर है, ऑस्ट्रेलिया में आज भी टेस्ट क्रिकेट काफी पॉपुलर है। हम भाग्यशाली हैं कि ऑस्ट्रेलिया में हमें खिलाड़ियों, मीडिया और आम लोगों से भी टेस्ट क्रिकेट के लिए अच्छा रिस्पॉन्स मिलता है। इससे अब हर देश टेस्ट क्रिकेट को अपनी वरियता में ऊपर रखेगा।'

ऐसी होगी चैम्पियनशिप
चैम्पियनशिप के दौरान अगले दो साल में कुल 27 सीरीज के तहत 71 टेस्ट मैच खेले जाएंगे। इस दौरान चोटी पर रहने वाली दो टीमें जून 2021 में ब्रिटेन में आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियन का फाइनल खेलेंगी। हर टीम तीन घरेलू सीरीज और तीन सीरीज विदेशी जमीन पर खेलेंगी। हर मैच के लिए टीमों को प्वाइंट मिलेंगे। हर सीरीज में 120 प्वाइंट होंगे और जितने भी मैच उस सीरीज में खेले जाएंगे, उनमें बराबार बांट दिए जाएंगे। उदाहरण के लिए दो मैचों की सीरीज में हर मैच के लिए 60 प्वाइंट होंगे, जबकि तीन मौचों की सीरीज में हर मैच के लिए 40 प्वाइंट रखे जाएंगे। टाई हुए टेस्ट मैच में 50 फीसद प्वाइंट दिए जाएंगे, जबकि ड्रॉ मैच में 3:1 प्वाइंट उपलब्ध होंगे। चैम्पियनशिप के दौरान कम से कम दो मैच और अधिकतम पांच मैचों की सीरीज दो टीमें खेल सकती हैं।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Digpal Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप