नई दिल्ली। इग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने अपने अनोखे 100 गेंद वाले टूर्नामेंट के नियमों का एलान कर दिया है। अगले वर्ष इस टूर्नामेंट में कुछ आठ टीमें खेलती नजर आएंगी। पिछले वर्ष अफ्रैल महीने में ईसीबी ने इस टूर्नामेंट के प्रारूप का प्रस्ताव रखा था और अगर इसकी शुरुआत हो जाती है तो ये क्रिकेट का सबसे छोटा प्रारूप बन जाए।  

क्या होंगे 100 गेंद वाले टूर्नामेंट के नियम

क्रिकेट के इस पारूप में एक पारी में कुल 100 गेंदें फेकी जाएंगी और दस गेंदों के बाद बल्लेबाज अपना छोर बदल सकेगा। इसमें एक गेंदबाज लगातार पांच या फिर दस गेंदें डाल सकता है और वो गेंदबाज एक पारी में 20 से ज्यादा गेंद नहीं फेंक सकता। हर पारी में शुरुआती 25 गेंदों का पावरप्ले होगा जिसमें फील्डिंग के वक्त 30 गज से बाहर सिर्फ दो ही फील्डर रह सकते हैं। इसके अलावा प्रत्येक टीम को 2.5 मिनट का स्ट्रेजिक टाइम आउट मिलेगा। 

इस टूर्नामेंट के आयोजन को लेकर इंग्लिश क्रिकेट बोर्ड के चीफ एक्जिक्यूटिव टॉम हैरिसन का कहना है कि ये एक बड़ा कमद है और 100 गेंद वाले इस टूर्नामेंट को काफी समर्थन मिल रहा है। पिछले तीन वर्षों में हमने इस पर काफी काम किया है। मुझे यकीन है कि क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप के आने से नए लोग भी इसके साथ जुड़ सकेंगे। 

आपको बता दें कि पिछले वर्ष ईसीबी ने घोषणा की थी कि इस टूर्नामेंट का आयोजन लॉर्ड्स, द ओवर, कार्डिफ, ओल्ड ट्रेफर्ड, हैडिंग्ले, ट्रेंट ब्रिज, एजबेस्टन व एजिस ओवर में किया जाएगा। अब सबकी नजर टीमों के चयन, उनके नाम व किट्स कलर्स का चयन करने पर होगी। वहीं इससे पहले इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड कमेटी ने प्लेइंग कंडीशन का प्रस्ताव रखा था, जिसे पिछले साल इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने पारित कर दिया था। इसे 18 फर्स्ट क्लास काउंटी टीमों के सामने रखा गया था, जिन्होंने इसके पक्ष और विपक्ष में अपना मत डाला। इसमें आखिरी वोट इस हफ्ते डाला गया। अंत में इस फॉर्मेट के पक्ष में 17 वोट पड़े और एक वोट विपक्ष में पड़ा।

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप