नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी के क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (सीएसए) टी20 लीग की टीम जोहानिसबर्ग फ्रेंचाइजी का मेंटर बनने की चर्चा है, लेकिन भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआइ) ने साफ कर दिया है कि एम एस धौनी संन्यास लेने के बाद ही दुनिया की किसी और लीग में किसी तरह की भूमिका निभा सकते हैं।

धौनी ने 2020 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया था और वह घरेलू क्रिकेट में भी नहीं खेलते हैं। धौनी आइपीएल में ही खेलते नजर आते हैं। सीएसए टी20 लीग में आइपीएल के ही मालिकों ने टीमें खरीदी हैं। धौनी की कप्तानी वाली चेन्नई सुपरकिंग्स के मालिकों ने जोहानिसबर्ग फ्रेंचाइजी खरीदी है। धौनी को अब इसी टीम का मेंटर बनाने की बात चल रही है। लेकिन धौनी को इसके लिए आइपीएल से भी संन्यास लेना होगा।

रिपोर्ट के अनुसार, बीसीसीआइ के एक अधिकारी ने कहा, 'यह साफ है कि घरेलू खिलाड़ियों सहित कोई भी भारतीय खिलाड़ी तब तक किसी अन्य लीग में हिस्सा नहीं ले सकता जब तक वह खेल के सभी प्रारूपों से संन्यास नहीं ले लेता। अगर कोई खिलाड़ी इन आगामी लीगों में भाग लेना चाहता है तो वह ऐसा तभी कर सकता है जब वह बीसीसीआइ से सभी संबंध तोड़ ले।'

एम एस धौनी के मेंटर बनने के सवाल पर अधिकारी ने साफ कर दिया कि वह फिर चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए आइपीएल में नहीं खेल पाएंगे। उन्हें संन्यास लेना ही होगा। इससे साफ हो गया है कि एम एस धौनी सीएसके के लिए खेलते हुए दक्षिण अफ्रीका लीग में किसी भी भूमिका में नजर नहीं आएंगे। आपको बता दें कि एम एस धौनी चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान हैं। हालांकि 2022 में उन्होंने इस टीम की कप्तानी चोड़ दी थी और रवींद्र जडेजा को टीम का कप्तान बनाया गया था, लेकिन बाद में जडेजा ने टीम की कप्तानी छोड़ दी थी और फिर से धौनी टीम के कप्तान बन गए थे। आइपीएल के 15वें सीजन में सीएसके का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा था और ये टीम प्लेआफ में नहीं पहुंच पाई थी। 

Edited By: Sanjay Savern