मुबई। टीम इंडिया के तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने हाल ही में संन्यास लेने वाले बाएं हाथ के तेज गेंदबाज जहीर खान के साथ मैदान के अंदर और बाहर बिताए शानदार समय को याद किया। इशांत ने कहा कि वह आज जो कुछ भी हैं वो जहीर की वजह से है। इशांत ने 37 वर्षीय जहीर को लगातार मार्गदर्शन और समर्थन देने का श्रेय दिया, जिससे उन्हें वह गेंदबाज बनने में मदद मिली जो वो आज हैं।

जहीर ने 14 वर्ष लंबे अंतरराष्ट्रीय करियर पर गुरुवार को विराम लगा दिया था। जहीर लगातार चोटों से परेशान रहे, हाल ही में उन्हें कंधे में दर्द की शिकायत रही। जहीर ने 2000 में भारतीट टीम की तरफ से पदार्पण किया और 2014 में न्यूजीलैंड के खिलाफ वेलिंगटन में आखिरी मैच खेला।

इशांत के हवाले से बीसीसीआइ टीवी ने कहा- मैं खुद को टीम का प्रमुख तेज गेंदबाज बना पाया क्योंकि जहीर ने मुझे गुर सिखाए थे। कोई नहीं समझेगा कि जहीर पा का मेरी जिंदगी में कितना प्रभाव है। उन्होंने मुझे एक गेंदबाज के रूप में बढ़ाया। वह मेरे आदर्श है और मेरे खास दोस्त भी।

इशांत ने कहा कि जहीर ने ही मुझे रिवर्स स्विंग बाहर निकालना सिखाया। 27 वर्षीय इशांत का मानना है कि जहीर की जगह भारतीय तेज गेंदबाजी की कमान संभालना आसान नहीं होगा।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Edited By: sanjay savern