नई दिल्ली, प्रेट्र। महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर ने कहा है कि मेंटर के तौर पर महेंद्र सिंह धौनी की वापसी से भारतीय टीम का मनोबल बढे़गा, लेकिन अगर उनके और मुख्य कोच रवि शास्त्री के बीच रणनीतिगत मतभेद हुए तो टी-20 विश्व कप में टीम पर इसका विपरीत असर पड़ सकता है।

गावस्कर ने कहा, 'धौनी की नियुक्ति से भारतीय टीम का मनोबल बढे़गा। भारत ने उनकी कप्तानी में विश्व कप जीते हैं। उनके पास अपार अनुभव है और वह सब कुछ जानते हैं। उनके जैसा विस्फोटक बल्लेबाज उनके दौर में कोई नहीं हुआ। लेकिन अगर टीम चयन या रणनीति को लेकर रवि और धौनी में मतभेद हुए तो इसका उलटा असर भी हो सकता है। मैं उम्मीद करता हूं कि ऐसा नहीं हो। रवि और धौनी समान रूप से सोचते हैं तो भारत को इसका बहुत फायदा होगा।'

उन्होंने कहा, 'मुझे भी पहले टीम का सलाहकार बनाया गया था जिसे आज मेंटर कहते हैं। जान राइट नर्वस हो गया। उसने सोचा कि मैं उसकी जगह ले लूंगा। यहां हालांकि मामला अलग है और रवि को पता है कि धौनी की कोचिंग में दिलचस्पी नहीं है। मेंटर बनने में बुराई नहीं है। मैं तो कहता ही आ रहा हूं कि पूर्व खिलाड़ी को कोच या चयनकर्ता बनना चाहिए लेकिन संन्यास के बाद दो या तीन साल का विश्राम लेने के बाद। आप ड्रेसिंग रूम का हिस्सा होते हैं जहां मतभेद या बहस भी हुए होंगे। ऐसे में आपको लगता है कि कोई खिलाड़ी आपके खिलाफ था तो आप उसके खिलाफ कुछ कर सकते हैं। धौनी को कोच बनना है तो उसके लिए अच्छा होगा कि दो या तीन साल बाद बने।'

T20 वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम-

विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा (उपकप्तान), केएल राहुल, सूर्यकुमार यादव, रिषभ पंत (विकेटकीपर), इशान किशन (विकेटकीपर), हार्दिक पांड्या, रवींद्र जडेजा, राहुल चाहर, आर अश्विन, अक्षर पटेल, वरुण चक्रवर्ती, जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार और मुहम्मद शमी।

रिजर्व खिलाड़ी-

श्रेयस अय्यर, दीपक चाहर और शार्दुल ठाकुर

Edited By: Sanjay Savern