रांची, प्रेट्र। भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज रिद्धिमान साहा मानते हैं कि दादा (सौरव गांगुली) का बीसीसीआइ अध्यक्ष बनना भारतीय खिलाडि़यों के लिए अच्छा संकेत है।

तीसरे टेस्ट मैच से पहले रिद्धिमान साहा ने कहा कि दादा लंबे समय तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेले हैं उन्हें पता है कि खिलाडि़यों का कहां और क्या परेशानी होती है। उन्हें कुछ बताने की आवश्यकता नहीं होगी। एक खिलाड़ी ही दूसरे खिलाड़ी के दर्द को समझ सकता है इसलिए मुझे लगता है कि कप्तानी की तरह यहां भी वह नए युग की शुरुआत करेंगे। दादा के नेतृत्व में कई अच्छे काम होंगे। साहा ने कहा कि युवा विकेटकीपर बल्लेबाज रिषभ पंत के साथ कोई समस्या नहीं है हमारी ट्यूनिंग बेहतर है। उसे जब भी कोई समस्या होती है तो मुझसे वह बात करता है। वह प्रतिभावान है और अनुभव के साथ साथ बेहतर होता चला जाएगा।

विकेटकीपिंग से जुड़े सवाल पर रिद्धिमान साहा ने कहा कि यह मुश्किल जॉब है। बेहतर करते है तो ठीक है अगर कुछ गलत हुआ तो सब कुछ विकेटकीपर के ऊपर लाद दिया जाता है। रांची के जेएससीए स्टेडियम में रिद्धिमान साहा ने साल 2017 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 117 रन बनाए थे। उनसे जब पूछा गया कि क्या इस बार भी उनका बल्ला यहां बोलेगा? इस पर साहा ने कहा मेरा प्रयास हर मैच में बेहतर प्रदर्शन करने का रहता है। यहां खेले गए पिछले टेस्ट में मैने शतक जड़ा था। इस बार भी बेहतर करने का प्रयास करूंगा।

साहा ने टेस्ट मैच में 20 महीने के बाद वापसी की थी। उन्हें वेस्टइंडीज के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए टीम में चुना गया था, लेकिन अंतिम ग्यारह में मौका नहीं मिला। वहीं वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज में रिषभ का प्रदर्शन खराब रहा था इस वजह से उन्हें दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अंतिम ग्यारह में टीम का हिस्सा बनाया गया। साहा ने पहले दो टेस्ट मैच में काफी शानदार विकेटकीपिंग की है। रांची में एक बार फिर से उनसे काफी उम्मीदें रहेंगी। 

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप