इस्लामाबाद, एएनआइ। पाकिस्तान क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज शोएब अख्तर को अपने समय में क्रिकेट के मैदान पर धमाकेदार गेंदबाजी करने के लिए जाना जाता था, लेकिन अब मैदान के बाहर भी शोएब अख्तर आतिशी नजर आ रहे हैं। शोएब अख्तर ने हाल ही में दावा किया है कि वह घास खाने के लिए तैयार है, लेकिन इससे उनके देश की सेना के बजट में बढ़ोतरी होनी चाहिए।

पाकिस्तानी चैनल ARY न्यूज को दिए इंटरव्यू में शोएब अख्तर ने कहा है, "अगर अल्लाह ने मुझे कभी अधिकार दिया तो मैं खुद घास खाऊंगा, लेकिन सेना का बजट बढ़ा दूंगा।" क्रिकेट के इतिहास में सबसे तेज गेंद फेंकने के लिए माने जाने वाले अख्तर ने कहा कि उन्हें समझ नहीं आता कि असैन्य क्षेत्र सशस्त्र बलों के साथ मिलकर काम क्यों नहीं कर सकता।

'रावलपिंडी एक्सप्रेस' के नाम से फेमस गेंदबाज शोएब अख्तर ने कहा है, "मैं अपने सेना प्रमुख को मेरे साथ बैठने और निर्णय लेने के लिए कहूंगा। अगर बजट 20 फीसदी है, तो मैं इसे 60 फीसदी कर दूंगा। अगर हम एक-दूसरे का अपमान करते हैं, तो नुकसान हमारा ही है।" अख्तर ने यह भी दावा किया था कि वह अपने देश के लिए गोली खाने के लिए तैयार थे। उन्होंने काउंटी क्रिकेट की लाखों रुपयों की डील को ठुकरा दिया था, क्योंकि वह 1999 के कारगिल युद्ध में भारत के खिलाफ लड़ना चाहते थे।

इससे पहले 'पिंडी ब्वॉय' यानी शोएब अख्तर ने भारतीय टीम के पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग द्वारा उन्हें स्लेज करने के दावे को नकार दिया था। सहवाग अक्सर कहा करते थे कि उन्होंने अख्तर को बोला था कि सचिन को बाउंसर मारो तो उन्होंने बाउंसर मारा था। उस गेंद पर सचिन ने छक्का जड़ा था तो वीरू ने अख्तर को बोला था कि बाप-बाप होता है। इस पर अख्तर ने कहा है, "हां, पूरी तरह से उनके द्वारा बनाई गई कहानी है। मुझे ये बोल के उसको बचकर किधर जाना था।"

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस