नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। टीम इंडिया के ओपनर मयंक अग्रवाल दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीसरे मैच की पहली पारी में फेल रहे। वह सिर्फ 15 रन बनाकर आउट हो गए। अग्रवाल 0 पर जीवनदान मिला था, लेकिन वह इसका फायदा नहीं उठा सके और कैगिसो रबादा की गेंद पर पवेलियन लौट गए। दाएं हाथ का बल्लेबाज आफ स्टंप से बाहर की गेंद में नई गेंद पर कड़ी मेहनत कर रहा था, जिसे वह अकेला छोड़ सकता था। वह पहले टेस्ट में 60 रन बनाने के बाद अबतक बड़ा स्कोर बनाने में कामयाब नहीं हुए हैं। इस बीच अब दिग्गज सुनील गावस्कर ने बताया है कि टीम इंडिया के ओपनर से क्या गलती हो रही है। उनकी टेक्निक में क्या समस्या है।

गावस्कर ने कमेंट्री करते हुए कहा कि जब गेंद मूव होती है तो अग्रवाल को दिक्कत होती है। इसका कारण उनका बैट स्पीड है। 30 वर्षीय क्रिकेटर न्यूजीलैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज में शानदार शतक लगाकर अफ्रीका दौरे पर आए और ऐसे में उनके फार्म पर सवाल नहीं है, लेकिन उनकी तकनीक पर जरूर सवाल उठा है। उन्होंने कहा कि गेंद जब बल्ले के बीच में लगती है तो अग्रवाल बहुत बेहतर बल्लेबाज दिखाई देते हैं, लेकिन जब गेंद थोड़ी मूव करती है, तो बैट स्पीड उऩ्हें परेशानी में डाल देती है। जब वह 0 पर थे हमने उनके बल्ले का किनारा लेते देखा। वह एक शानदार कैच होता। उनका बैट कितनी  तेजी से गेंद पर गया।

गावस्कर ने आगे कहा कि अग्रवाल को अपना बल्ला पैड के करीब रखना चाहिए था। इससे उन्हें मदद मिल सकती थी। उन्होंने कहा कि टेस्ट क्रिकेट में गेंद छोड़ने के महत्वपूर्ण होता है। उन्होंने कहा कि वास्तव में अगर बैट और पैड करीब होते, तो वह खेलते और चूक जाते, लेकिन ऐसा नहीं था। टेस्ट क्रिकेट में गेंद को छोड़ने का एक पहलू है। पहले घंटे में जितना हो सके गेंद छोड़ने की कोशिश करनी चाहिए।

Edited By: Tanisk