रांची, प्रेट्र। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट में दोहरा शतक जड़ने वाले भारत के सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने कहा कि टीम के लिए मेरी और रहाणे की साझेदारी महत्पूर्ण रही। दूसरे दिन (रविवार) का खेल समाप्त होने के बाद रोहित ने कहा कि 39 रन पर तीन विकेट गिरने के बाद हम दबाव में थे। ऐसे में टीम को एक बड़ी साझेदारी की आवश्यकता थी। हमें खुशी है कि रहाणे के साथ मिलकर मैं टीम को संकट से निकालने में सफल रहा। बल्लेबाजी के समय मेरा ध्यान सिर्फ बल्लेबाजी पर रहता है। मैं रिकॉर्ड के बारे में नहीं सोचता। बल्लेबाजी के क्रम में रिकॉर्ड बन जाते हैं।

रोहित ने माना कि टेस्ट में पारी शुरू करना एक चुनौती है। आप नए गेंद से खेलते हैं जबकि मध्य क्रम में आपको पुरानी गेंद खेलने को मिलती है। मैंने दोनों स्थानों पर बल्लेबाजी की और मेरा प्रयास रहा कि अच्छा प्रदर्शन करूं। भारतीय सलामी बल्लेबाज ने कहा कि मुझे पारी की शुरुआत करना पसंद है। अभी मैं तीन टेस्ट में ही पारी की शुरुआत किया हूं। लेकिन विदेशी धरती पर भी मुझे बेहतर करना है। बतौर सलामी बल्लेबाज दूसरे देशों में बेहतर करने का दबाव बना रहता है। वैसे सच कहूं जब मुझे टेस्ट में पारी की शुरुआत करने के लिए कहा गया था तो मैं दबाव में आ गया था। लेकिन धीरे-धीरे सब ठीक हो गया। रोहित ने कहा कि मैंने जिस हालात में यहां शतक लगाया उससे मुझे संतुष्टि मिली है।

आपको बता दें कि तीसरे टेस्ट मैच की पहली पारी में रोहित शर्मा ने 212 रन की पारी खेली और अपने टेस्ट करियर का पहला दोहरा शतक जड़ा। रोहित व रहाणे ने पहली पारी में टीम को उस वक्त संभाला जब तीन बल्लेबाज जल्दी-जल्दी आउट हो गए थे। इन दोनों के बीच चौथे विकेट के लिए 267 रन की कमाल की साझेदारी हुई। इस साझेदारी के दम पर ही टीम इंडिया का स्कोर पहली पारी में 497 तक पहुंचा। इस मैच में रहाणे ने भी शतक लगाया और 115 रन बनाए। 

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप