नई दिल्ली, जेएनएन। रिषभ पंत को भारतीय क्रिकेट के अगले एम एस धौनी के तौर पर देखा जाता है। रिषभ की तुलना हमेशा ही माही के साथ की जाती रही है और उन्हें धौनी का सबसे बड़ा उत्तराधिकारी भी माना जाता है। हालांकि टीम इंडिया में कई मौके मिलने के बाद भी रिषभ ने अपनी बल्लेबाजी और विकेटकीपिंग से काफी बार निराश किया, लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में रिषभ ने जिस तरह का खेल दिखाया वो अपने आप में कमाल का रहा। 

23 साल के रिषभ पंत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चौथे व आखिरी टेस्ट मैच में ब्रिसबेन में जिस तरह की बल्लेबाजी करते हुए भारत को जीत दिलाई उसके बाद कहा जा रहा है कि, रिषभ का नया जन्म हुआ और वो भारतीय टीम की सफलता में धौनी की तरह से ही भूमिका निभाएंगे। हालांकि कई लोगों की मानना है कि एम एस धौनी से उनकी तुलना किया ठीक नहीं है क्योंकि इससे उनके प्रदर्शन पर असर होगा।  

टीम इंडिया अपने बेहद सफल दौरे के बाद गुरुवार को रिषभ पंत दिल्ली पहुंचे और दिल्ली एयरपोर्ट पर उनसे कुछ सवाल पूछे गए। जब उनके एम एस धौनी से तुलना पर बात की गई तो उन्होंने खुशी जताई, लेकिन ये भी कहा कि, वो अपनी पहचान खुद बनाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि, अगर धौनी जैसे खिलाड़ी के साथ आपकी तुलना की जाती है तो ये शानदार है। ये काफी अच्छा है, लेकिन मैं किसी के साथ अपनी तुलना किया जाना पसंद नहीं करता। मैं भारतीय क्रिकेट में अपना नाम बनाना चाहता हूं, क्योंकि एक लीजेंड की एक युवा खिलाड़ी से तुलना करना सही नहीं है। 

इस टेस्ट सीरीज में रिषभ पंत को साहा की जगह पहले टेस्ट मैच के बाद मौका मिला था और फिर उन्होंने तीन टेस्ट मैचों की छह पारियों में भारत की तरफ से सबसे ज्यादा रन बनाए। ब्रिसबेन टेस्ट में उनकी बल्लेबाजी के लिए उन्हें प्लेयर ऑफ द मैच का खिताब भी मिला। अजिंक्य रहाणे की कप्तानी में टीम इंडिया ने चार मैचोँ की टेस्ट सीरीज में 2-1 से जीत दर्ज की थी। रिषभ पंत को इंग्लैंड के खिलाफ चार मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए भी भारतीय टेस्ट टीम में शामिल किया गया है। 

Ind-vs-End

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप