नई दिल्ली, जेएनएन। इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन के सफल आयोजन के बाद अब अगले सीजन में नई टीम के शामिल किए जाने की चर्चा हो रही है। इस सीजन में कई नए चेहरों ने अपनी छाप छोड़ी। युवाओं के लिए आइपीएल एक ऐसा मंच है जिसके जरिए वो भारतीय टीम तक का सफर तय कर सकते हैं।

पूर्व भारतीय कप्तान और नेशनल क्रिकेट अकादमी के डायरेक्टर राहुल द्रविड़ को मानना है की आइपीएल में टीम के बढ़ने के ज्यादा युवाओं को मौका मिल पाएगा। द्रविड़ ने कहा, "जिस जगह पर मैं हूं वहां से तो देख पा रहा हूं कि भारत के कई सारे टैलेंटेड खिलाड़ी आ रहे हैं। मुझे लगता है कि अब हम आइपीएल को और बड़ा बनाने के लिए तैयार हैं। मुझे फ्रेंचाइजी के बारे में तो पता नहीं है लेकिन टैलेंट के लिहाज से तो हम बिल्कुल तैयार हैं।

द्रविड़ का कहना था कि युवाओं को टीम में चुना जाता है लेकिन प्लेइंग में वह जगह नहीं बना पाते। ज्यादा टीमों के आने के बाद ज्यादा से ज्यादा युवाओं को प्लेइंग इलेवन में जगह मिल पाएगी। "ऐसे कई भारत के टैलेंटेड खिलाड़ी हैं जिनको मौका नहीं मिल पा रहा। ये सभी वाकई बहुत ही टैलेंटेड हैं लेकिन इनको प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं मिल पाती।"

भारतीय क्रिकेट टीम के लिए खेलने का मौका पाने वाले युवा पृथ्वी शॉ, रिषभ पंत, श्रेयस अय्यर और शुभमन गिल राहुल द्रविड़ के कोचिंग ले चुके हैं। इंडिया ए और अंडर 19 की टीम के कोच रहते पूर्व कप्तान ने इन सभी खिलाड़ियों को काफी कुछ सिखाया है।

"मैं अंडर 19 टीम के साथ बतौर कोच काफी दिनों तक रहा और यह देखते हुए काफी अच्छा लगता है कि काफी अंडर 19 टीम के खिलाड़ी अपनी जगह बनाने में कामयाब हो रहे हैं। ऐसे और भी कई टैलेंट हैं जिनको अभी भी अपने मौके का इंतजार है।"  

 

Ind-vs-End

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप