नई दिल्ली, आईएएनएस। भारतीय क्रिकेट टीम ने जब पिछली बार आईसीसी टूर्नामेंट जीता था वो साल 2013 की चैंपियंस ट्रॉफी थी। इस वक्त टीम की ट्रेनिंग का जिम्मा रामजी श्रीनिवास के हाथों था। इतना ही नहीं इससे पहले साल 2011 में विश्व कप जीतकर भारत ने जब 28 साल का सपना पूरा किया तब भी टीम को फिट रखने की जिम्मेदारी इन्हीं कंधो पर थी। रामजी का कहना है सचिन तेंदुलकर, महेंद्र सिंह धौनी या रोहित शर्मा इनको कभी ज्यादा वजन के साथ एक्सरसाइज करते हुए नहीं देखा।

आईएएनएस से बात करते हुए टीम इंडिया के ट्रेनर रह चुके रामजी ने बताया कि लॉकडाउन में घर पर रहते हुए भी स्वास्थ और फिटनेस को बनाए रखना आसान है। यह उतना मुश्किल नहीं है फिट रहने के लिए भारी वजह उठाना जरूरी नहीं है। उन्होंने कहा आश्चर्य होता है यह देखकर की आजकल फिट रहने का नजरिया कैसे बदल गया है।

"मेरा यकीन करिए आप घर पर रहते हुए भी टॉप फिटनेस हासिल कर सकते हैं। आपको बस अपने शरीर के बारे में जानकर उसपर काम करना है। मैं भारी वजन उठाकर ट्रेनिंग करने को लेकर जुनून नहीं रखता जैसा इन दिनों चलता है। हां, यह जरूर कुछ एथलीट के लिए काम करता है लेकिन यही एक रास्ता नहीं है फिट और स्वस्थ रहने का।" 

आगे उन्होंने बताया, "मैंने भारतीय क्रिकेट टीम के साथ काम किया है जब इसमें बहुत सारे शानदार खिलाड़ी बल्कि कहना चाहूंगा स्मार्ट लोग थे जो यह जानते थे उनके शरीर को किस चीज की जरूरत है।" 

टीम इंडिया से दिग्गजों के बारे में रामजी ने बताया, "मैंने तो सचिन तेंदुलकर, धौनी, वीरेंद्र सहवाग या रोहित शर्मा को कभी नहीं देखा वो भारी वजन के साथ ट्रेनिंग करने को लेकर जुनून रखते हों। हां, वो जिम जरूर जाते हैं लेकिन एक सेशन ऐसा होता जरूर था जहां उनको ये सब करना होता था लेकिन ऐसा नहीं कि उनको भारी वजह उठाना होगा।" 

 

Posted By: Viplove Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस