लंदन। टेस्ट क्रिकेट की घटती लोकप्रियता को देखते हुए क्रिकेट के सबसे लंबे प्रारूप को और रोचक बनाने की कवायद शुरू हो चुकी है। क्रिकेट के नियम बनाने वाली संस्था मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (एससीसी) वर्ल्ड क्रिकेट कमेटी ने टेस्ट क्रिकेट को और रोमांचक बनाने के लिए कुछ प्रस्ताव दिए हैं। एमसीसी के प्रस्ताव में टेस्ट क्रिकेट में समय बर्बाद होने से रोकने के लिए शाट क्लाक का इस्तेमाल किया जाना शामिल है। इसके अलावा विश्व टेस्ट चैंपियनशिप की शुरुआत में मानक गेंद का इस्तेमाल और नो बॉल के लिए फ्री हिट को लाने का प्रस्ताव शामिल है। 

पिछले हफ्ते बेंगलुरु में इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइक गैटिंग की अध्यक्षता वाली समिति की बैठक हुई थी जिसमें टेस्ट क्रिकेट के लिए कुछ बदलावों का सुझाव दिया गया। इस समिति में भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली भी शामिल हैं। टेस्ट क्रिकेट में बदलाव के प्रस्तावों को एमसीसी ने अपना वेबसाउट कर लगाया है। टेस्ट क्रिकेट में धीमी ओवर गति एक नियमित प्रक्रिया है जिससे क्रिकेट फैंस इस खेल से थोड़ा दूर हो गए हैं इसकी वजह से इस समिति ने शाट क्लॉक शुरू करने की वकालत की है। 

MCC की तरफ से कहा गया है कि जब ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, इंग्लैंड व दक्षिण अफ्रीका के फैंस से टेस्ट क्रिकेट में दर्शकों की कम देखने का कारण पूछा गया तो 25 फीसदी फैंस ने धीमी ओवर गति की बात का जिक्र किया। इन देशों में स्पिनर मैच के दौरान कम ओवर फेंकते हैं और एक दिन में 90 ओवर भी पूरा नहीं हो पाता है। यहां तक की एक दिन में फेंके जाने वाले 90 ओवर को पूरा करने के लिए 30 मिनट का अतिरिक्त समय लिया जाता है। 

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप