क्राइस्टचर्च, पेट्र। India vs New Zealand 2nd test match: दूसरे टेस्ट मैच की पहली पारी में जानदार गेंदबाजी करने वाले भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने दूसरी पारी में भारतीय बल्लेबाजों के खराब प्रदर्शन पर कहा कि वो किसी ब्लेम गेम में नहीं पड़ना चाहते। बुमराह और मो. शमी ने न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच की पहली पारी में सात विकेट लिए थे और कीवी टीम को 235 रन पर समेटने में बड़ी भूमिका निभाई। इस मैच की दूसरी पारी में दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक भारतीय टीम ने छह विकेट पर 90 रन बनाए। फिलहाल भारत की बढ़त 97 रन की हो गई है। 

जसप्रीत बुमराह ने टीम के बल्लेबाजों के निराशाजनक प्रदर्शन के बारे में कहा कि हम कोई ब्लेम गेम नहीं खेलना चाहते और ना ही किसी पर कोई दोष मढ़ना चाहते हैं क्योंकि ये हमारी टीम का कल्चर नहीं है। कभी-कभी ऐसा भी होता है कि हमारे गेंदबाज भी विकेट निकालने में कामयाब नहीं हो पाते हैं तो इसका ये मतलब नहीं है कि बल्लेबाज हमें दोषी ठहराएं। बुमराह ने अपनी इन बातों से भारतीय टॉप ऑर्डर को डिफेंड करने की कोशिश की जो दूसरी पारी में रन नहीं बना पाए। 

बुमराह ने कहा कि उन्हें रिषभ पंत और हनुमा विहारी की काबिलियत पर पूरा भरोसा है कि वो मैच के तीसरे दिन अच्छा स्कोर बनाएंगे। दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक रिषभ पंत पांच जबकि हनुमा विहारी एक रन बनाकर नाबाद हैं और भारत की उम्मीद उनसे ही टिकी है। उन्होंने कहा कि अभी हमारे पास दो बल्लेबाज हैं और हम खेल को और आगे ले जा सकते हैं। अब हम यही कोशिश करेंगे कि ज्यादा से ज्यादा रन बना सकें और फिर देखते हैं क्या होता है। एक टीम के तौर पर हम एक-दूसरे के काफी करीब हैं और कड़ी मेहनत कर रहे हैं। हमने दूसरी पारी में शुरुआत में ही ज्यादा विकेट गंवा दिए, लेकिन हम कोई ब्लेम गेम नहीं खेलना चाहते और हमारी यही कोशिश है कि टीम में सब एक-दूसरे का साथ दें। 

पहले टेस्ट मैच में बुमराह की गेंदबाजी ज्यादा अच्छी नहीं रही थी और वो वनडे सीरीज में एक भी विकेट नहीं ले पाए थे इसके बाद उन पर सवाल उठे थे, लेकिन इस पर बुमराह का कहना है कि इससे उन्हें कोई परेशानी नहीं है क्योंकि उन्हें पता है कि वो अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मैं अपने व्यक्तिगत प्रदर्शन पर ध्यान नहीं दे रहा। हम एक टीम के तौर पर सही दिशा में जा रहे हैं या नहीं ये ज्यादा अहम है। कभी ऐसा होता है कि मैं विकेट लेता हूं और दूसरे को विकेट नहीं मिलते तो किसी दिन इसका उल्टा होता है। मेरी ये कोशिश होती है कि मैं टीम के लिए क्या अच्छा कर सकता  हूं। 

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस