नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर इरफान पठान ने पूर्व भारतीय कोच ग्रैग चैपल का बचाव किया है। इरफान ने बतौर तेज गेंदबाज नाम कमाया था लेकिन बल्लेबाजी पर ध्यान लगाने की वजह से उनका करियर खराब हो गया। लोग आम तौर पर चैपल पर पठान का करियर खराब करने का इल्जाम लगाते हैं लेकिन यह गलत है।

पूर्व ऑलराउंडर ने रौनक कपूर से बात करते हुए अपने शुरुआती करियर के बारे में बताया। उनका कहना था कि सचिन तेंदुलकर ने उनको बतौर ऑलराउंडर नंबर तीन पर बल्लेबाजी कराने की सलाह दी थी। चैपल ने उनका करियर खराब नहीं किया है।

"जब मैंने अपने संन्यास की घोषणा की उस समय भी यह बात बताई थी। जो यह बात कहते हैं कि मुझे बतौर ऑलराउंडर नंबर तीन पर बल्लेबाजी करने के लिए भेजकर ग्रेग चैपल ने मेरा करियर खराब किया तो वास्तव में यह सचिन पा जी का विचार था। उन्होंने राहुल द्रविड़ को सलाह दी थी कि मुझे नंबर तीन पर भेजा जाए। उनका कहना था उनके (इरफान) पास छक्के मारने की करने की ताकत है, वह नई गेंद पर आक्रमण कर सकते है वह तेज गेंदबाजों को भी खेल सकते हैं।"

"सबसे पहले मुझे श्रीलंका के खिलाफ सीरीज में आजमाया गया था जब मुथैया मुरलीधरन टॉप फॉर्म में थे और इरादा उनके उपर भी प्रहार करने का था। दिलहारा फर्नान्डो ने तब स्प्लिट फिंगर स्लो बॉल करनी शुरू की थी। इसे बल्लेबाज अच्छे से समझ नहीं पाते थे तो विचार यह था कि अगर मैंने उनको खेल लिया तो यह हमारे हक में काम करेगा। खासकर जबकि यह सीरीज का पहला मुकाबल था। यह बात सही नहीं है कि ग्रेग चैपल ने मेरा करियर खराब नहीं किया। चुकी वो भारत से नहीं थे तो बहुत आसान हो जाता है उनको निशाना बनाना।"

 

Posted By: Viplove Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस