लंदन, पीटीआइ। भारतीय टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण को लगता है कि एजबेस्टन की तुलना में लॉर्ड्स की पिच गेंदबाजों के लिए ज्यादा मददगार होगी, इसलिए दूसरे टेस्ट में एक अतिरिक्त बल्लेबाज के साथ खेलना रूढ़िवादी कदम होगा। अरुण ने साफ किया कि तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह अभी खेलने की स्थिति में नहीं हैं और वह लॉर्ड्स टेस्ट में भी अंतिम एकादश में शामिल नहीं हो सकेंगे। भारत को पहले टेस्ट में 31 रन से हार का सामना करना पड़ा था।

गावस्कर से अलग है अरुण की सोच

यह दिलचस्प है कि सीरीज के शुरुआती टेस्ट में भारत के खराब प्रदर्शन के बाद सुनील गावस्कर ने एक अतिरिक्त बल्लेबाज खिलाने की वकालत की थी। अरुण ने कहा, ‘यहां एक अतिरिक्त बल्लेबाज के साथ खेलने को एक रूढ़िवादी कदम की तरह देखूंगा। मुझे लगता है कि सभी चीजें परिस्थितियों पर निर्भर करेंगी और वे उस तरह नहीं खेलने वाले हैं जैसा कि वे पहले टेस्ट में खेले थे। इसलिए यह यहां पांच गेंदबाजों के साथ खेलने की भी एक वजह है।’

कोच ने किया बल्लेबाज़ों का बचाव

भारतीय बल्लेबाजों को स्विंग होती गेंदों के सामने काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा था, लेकिन कोच ने उनका बचाव करते हुए कहा, ‘बर्मिघम में बल्लेबाज काफी फॉरवर्ड खेले और ऐसा ही उन्होंने अभ्यास मैच में किया था। उन्हें लगता है कि उनके पास क्रीज के अंदर रहकर खेलने के बजाए ऐसा करने के लिए काफी विकल्प हैं।’ उन्होंने फ्रंट फुट पर रहकर खेलने को लेकर विस्तार से बताया। उन्होंने कहा, ‘ऐसा करके आप स्विंग गेंदों को खत्म कर रहे हो और गेंद के नजदीक पहुंच रहे हो। मुझे लगता है इसने अब तक बल्लेबाजों के लिए काफी बेहतर काम किया है।’

पिच देखकर होगा टीम सेलेक्शन

अरुण ने भारतीय उपमहाद्वीप के बाहर टेस्ट मैच में एक बार फिर 20 विकेट लेने पर अपने गेंदबाजों के प्रदर्शन पर संतुष्टि जताई। उन्होंने कहा, ‘हम कुछ भी बेहतर करने के लिए नहीं कह सकते। सुधार के लिए अभी भी गुंजाइश है, लेकिन गेंदबाजों ने अच्छा काम किया। पहली पारी से दूसरी पारी में काफी सुधार हुआ था और इसका तहेदिल से स्वागत करना चाहिए।’ लॉर्ड्स के विकेट के साथ स्क्वॉयर काफी सूखा देखा गया। ऐसे में अरुण ने कहा कि टीम की संभावना के बारे में बुधवार को कुछ कहा जाएगा। उन्होंने कहा, ‘हम बुधवार को टीम चुनेंगे। हमारे गेंदबाजों ने पिछले मैच में बेहतरीन काम किया था, लेकिन हम पहले विकेट का मुआयना करेंगे इसलिए हमें वाकई टीम में बदलाव की किसी भी योजना के लिए विकेट पर निर्भर होना पड़ेगा।’

कौन होगा दूसरा स्पिनर?

अरुण ने इस बात पर कुछ स्पष्ट नहीं किया कि यदि एक अतिरिक्त स्पिनर को खिलाने की जरूरत पड़ी तो वह रवींद्र जडेजा और कुलदीप यादव में से किस चुनेंगे। उन्होंने कहा, ‘यह (जडेजा और कुलदीप में से एक को चुनना) एक अच्छा विकल्प है और काफी मुश्किल भी। हम किसे खिलाते हैं यह परिस्थिति और टीम पर निर्भर करेगा। हार्दिक जितनी कम गेंदबाजी करेगा उतना ही टीम के लिए शुभ संकेत होंगे, क्योंकि इसका मतलब है कि अन्य विशेषज्ञ गेंदबाजों ने काफी अच्छा काम किया। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में काफी अच्छा काम किया है और मुझे कोई वजह नजर नहीं आती कि वह यहां टीम का हिस्सा क्यों नहीं होना चाहिए।’

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

By Pradeep Sehgal