केपटाउन, एएफपी। भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच केपटाउन में तीसरे और निर्णायक टेस्ट मैच का अंत हो गया। डीन एल्गर की अगुवाई वाली टीम ने सात विकेट मैच जीतकर सीरीज पर कब्जा जमा लिया। इस मैच में डीआरएस को लेकर विवाद हुआ था। इसे लेकर मेजबान प्रसारणकर्ता सुपरस्पोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि दक्षिण अफ्रीका और भारत के बीच टेस्ट सीरीज में इस्तेमाल होने वाले निर्णय समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) पर उसका कोई नियंत्रण नहीं है।

प्रसारणकर्ता ने कहा, 'सुपरस्पोर्ट ने भारतीय क्रिकेट टीम के कुछ सदस्यों द्वारा की गई टिप्पणियों को नोट किया है। हाक-आइ एक स्वतंत्र सेवा प्रदाता है, जिसे आइसीसी से अनुमति मिली हुई है और उसकी तकनीक को कई वर्षों से डीआरएस के अभिन्न अंग के रूप में स्वीकार किया गया है। सुपरस्पोर्ट का हाक-आइ तकनीक पर कोई नियंत्रण नहीं है।'

भारतीय टीम के सदस्यों ने गुरुवार को उस समय गुस्से में प्रतिक्रिया व्यक्त की जब दक्षिण अफ्रीका के कप्तान डीन एल्गर के खिलाफ एलबीडब्ल्यू का फैसला रिव्यू में पलट दिया गया। कई भारतीय खिलाडि़यों को इस फैसले के बारे में शिकायत करते हुए सुना गया था और ऐसा लगता था कि प्रसारणकर्ता तकनीक में हेरफेर कर रहा था।

मैच रेफरी एंडी पाइक्राफ्ट और आइसीसी की ओर से अभी तक कोई संकेत नहीं दिया गया है कि क्या भारतीय कप्तान विराट कोहली, उप कप्तान केएल राहुल और गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन के खिलाफ कोई अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी, जिनकी आवाज स्टंप माइक्रोफोन के माध्यम से सुनी गई थी।

तीसरे टेस्ट मैच का हाल

दक्षिण अफ्रीका के सामने 212 रन का लक्ष्य था, जो उसने तीन विकेट खोकर हासिल कर लिया। दक्षिण अफ्रीका की जीत में कीगन पीटरसन ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और 113 गेंदों पर 10 चौकों की मदद से 82 रन बनाए। उन्हें मैन आफ द मैच और मैन आफ द सीरीज के पुरस्कार से नवाजा गया। उन्होंने तीसरे दिन कप्तान डीन एल्गर (30) के साथ 78 रन की साझेदारी करके मजबूत नींव रखी थी। पीटरसन ने चौथे दिन सुबह रासी वेन डेर डुसेन (नाबाद 41) के साथ 52 रन जोड़कर भारत की उम्मीदों पर पानी फेरा। रही सही कसर वेन डेर डुसेन और तेंबा बावुमा (नाबाद 32) के बीच 57 रन की अटूट साझेदारी ने पूरी कर दी।

बल्लेबाजों ने दिखाया नीचा

भारत के पास दक्षिण अफ्रीका में पहली बार टेस्ट सीरीज जीतने का बेहतरीन मौका था। उसने सेंचुरियन में पहला टेस्ट मैच 113 रन से जीतकर शानदार शुरुआत की थी, लेकिन जोहानिसबर्ग में दूसरा मैच सात विकेट से हार गया था। तीसरे टेस्ट में भी सात विकेट की हार के साथ भारत ने सातवीं बार दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट सीरीज गंवा दी।आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड को उसकी धरती पर हराने के बाद भारत को दक्षिण अफ्रीका में अंतिम किला फतह करना था, लेकिन उसे उसके मजबूत बल्लेबाजी क्रम ने नीचा दिखाया। भारत ने पहली पारी 223 रन बनाकर दक्षिण अफ्रीका को 210 रन पर रोक दिया, लेकिन रिषभ पंत के नाबाद 100 रन के बावजूद वह दूसरी पारी में 198 रन ही बना सका। 

Edited By: Tanisk