नई दिल्ली, जेएनएन। भारत और इंग्लैंड के बीच टेस्ट सीरीज में भारत के हारने का सबसे बड़ा कारण बने इंग्लैंड के पुछल्ले बल्लेबाज। पांचवे टेस्ट में भी भारत ने एक वक्त 181 रन पर इंग्लैंड के 7 विकेट चटका लिए थे लेकिन इसके बावजूद इंग्लैंड 332 रन तक पहुंचने में सफल रहा। भारतीय गेंदबाज लगातार इंग्लैंड के पुछल्ले बल्लेबाजों के सामने संघर्ष कर रहे हैं। 5वें टेस्ट की पहली पारी में जोस बटलर ने स्टुअर्ट ब्रॉड के साथ मिलकर 98 रन की साझेदारी कर दी।

अब अपनी इस कमी को भारत के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने भी मान लिया है। बुमराह ने कहा कि हम 181 रन पर 7 विकेट लेकर अच्छी स्थिति में थे लेकिन हम इसके बाद अच्छी गेंदबाजी नहीं कर पाए और उन्होंने इसका पूरा फायदा उठाया। बुमराह ने माना की दूसरे दिन हमनें अच्छी गेंदबाजी नहीं और उन्होंने पूरे जज्बे के साथ बल्लेबाजी की।

बुमराह से जब पूछा गया कि भारतीय गेंदबाज निचले क्रम के बल्लेबाजों के सामने संघर्ष क्यों कर रहे हैं तो उन्होंने कहा कि निचले क्रेम के बल्लेबाजों के लिए आप कोई खास योजना नहीं बनाते हो। हम हर बल्लेबाज के हिसाब से रणनीति बनाते है और निचले क्रम के बल्लेबाजों का भी पूरा सम्मान करते हैं। दूसरे दिन अपने योजना बनाई लेकिन मैदान पर उसे सही ढंग से लागू नहीं कर पाए।

जब बुमराह से पूछा गया कि क्या भारत को 5वें गेंदबाज की कमी खली तो उन्होंने कहा कि ये सवाल टीम मैनेजमेंट से पूछना चाहिए, हां लेकिन अगर 5वां गेंदबाज होता तो हमे कम गेंदबाजी करनी होती और यह आपको नई प्रयोग करने में भी सहायक होते हैं। बुमराह ने ये भी माना कि हमने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया है। हमे पूरी जान लगाकर गेंदबाजी की और कई ओवर फेंके। अगर आपकी टीम में 5वां गेंदबाज हो तो आपको आराम का थोड़ा मौका मिल जाता है।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

 

Posted By: Lakshya Sharma