नई दिल्ली, जेएनएन। इंग्लैंड में अपने प्रदर्शन से सभी को निराश करने वाले भारतीय टीम के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या की लगातार आलोचना हो रही है। लॉर्ड्स टेस्ट में हार के बाद भारत के सबसे सफल ऑफ स्पिनर हरभजन ने हार्दिक को लताड़ लगाते हुए कहा था कि उनके नाम की आगे ऑलराउंडर लगाना बंद कर देना चाहिए। वह ऑलराउंडर का दर्जा पाने का हकदार नहीं है।

भज्जी के बाद अब वेस्टइंडीज ने महान तेज गेंदबाज माइकल होल्डिंग ने भी कह दिया है कि पांड्या अभी टेस्ट मैचों के लिए तैयार नहीं है। होल्डिंग ने कहा कि हार्दिक ना तो बल्ले से प्रभावित कर पा रहे हैं और ना ही गेंदबाजी से। गेंदबाजी में उनके अंदर नियंत्रण और निरंतरता की कमी है।

होल्डिंग ने भारतीय टीम के संतुलन पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि टीम इंडिया हार्दिक को एक ऑलराउंडर के तौर पर उपयोग कर रही है ताकी बल्लेबाजी के साथ वह गेंदबाजी भी कर सके लेकिन जब वह गेंदबाजी करते हैं तो बिल्कुल असरदार नहीं दिखते। अगर वह 60-70 बनाने के साथ 2-3 विकेट लेते तो यह टीम इंडिया के लिए अच्छा होता लेकिन वह यह नहीं कर पा रहे हैं।

होल्डिंग ने कहा कि वह उतने रन नहीं बना रहे जितने की उनसे उम्मीद की जा रही है और ना ही वह विकेट ले पा रहे हैं, जितने टेस्ट मैच में आपको लेने चाहिए। ऐसे में वह टीम इंडिया को मुश्किल में डाल रहे हैं। इंग्‍लैंड के खिलाफ टेस्‍ट सीरीज के अंतर्गत अब तक हुए दो मैचों में पंड्या ने चार पारियों में 90 रन बनाए हैं जबकि उन्हें अब तक केवल तीन विकेट हासिल हुए हैं.

इससे पहले हरभजन सिंह ने कहा था कि हमें हार्दिक के आगे से ऑलराउंडर का टैग हटाने की जरुरत है। ऑलराउंडर खेल के दोनों विभागों में योगदान देता है जैसा कि इंग्लैंड की तरफ से स्टोक्स और कुर्रन ने पहले टेस्ट और क्रिस वोक्स ने लॉर्ड्स के दूसरे टेस्‍ट मैच में किया. इसी तरह की उम्मीद हार्दिक पांड्या से की जा रही थी लेकिन वह इसमें बुरी तरह नाकाम रहे। भज्जी ने ये भी कहा था कि हार्दिक रातोंरात कपिल देव नहीं बन सकते हैं।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Lakshya Sharma