जागरण न्यूज नेटवर्क, नई दिल्ली। चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव का मानना है कि एक अच्छा स्पिनर बनने के लिए अपनी गेंदबाजी पर लगने वाले बड़े-बड़े शॉट से नहीं डरना चाहिए। कलाई के जादूगर कुलदीप को साल 2018 में वनडे और टी-20 में उनके शानदार प्रदर्शन के लिए क्रिकइंफो अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था।

कुलदीप ने क्रिकइंफो को दिए साक्षात्कार में कहा, 'मेरे कोच ने करियर की शुरुआत से ही मुझे विकेटों के बीच गेंदबाजी करने और बल्लेबाज को छक्के मारने की चुनौती देने के लिए कहा था। इसलिए यह डर निकल गया कि अगर मैं विकेटों के बीच गेंदबाजी करता हूं तो बड़े-बड़े शॉट लगेंगे। अगर आप इस डर को पीछे छोड़कर केवल विकेट लेने की नहीं सोचते हैं तो आप अच्छे स्पिनर नहीं बन सकते।'

कानपुर के 24 वर्षीय गेंदबाज को हाल में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली गई टी-20 सीरीज से आराम दिया गया था। हालांकि, वह शनिवार से शुरू हो रही पांच मैचों की वनडे सीरीज में टीम का हिस्सा होंगे। कुलदीप ने कहा, 'मैं नेट में गेंदबाजी का ज्यादा अभ्यास नहीं करता हूं। मैं भारतीय टीम के नेट में गेंदबाजी करता हूं, लेकिन उसके अलावा मैं अपने ड्रिल्स और सिंगल विकेट के साथ ही गेंदबाजी करता हूं। मैं मुश्किल से पांच ओवर भी नहीं करता और नेट में केवल स्टंप्स पर गेंदबाजी करता हूं। मैं मैदान पर काफी सोचता हूं, जब मैं खेल नहीं रहा होता हूं तब भी। जाहिर है कि मैं बल्लेबाज की ताकत और कमजोरी को पकड़ने के लिए वीडियो देखता हूं, लेकिन मैं यह नहीं सोचता कि अगर मैं वहां गेंद करूंगा तो शॉट लगेंगे।'

कुलदीप ने युजवेंद्रा सिंह चहल के साथ अपनी साझेदारी को लेकर कहा, 'जब आप लंबे समय तक एक साथ खेलते हैं तो आपको अपने जोड़ीदार से बहुत कुछ सीखने को मिलता है। मैंने भी उनसे काफी कुछ सीखा है। जब भी हम साथ खेलते हैं तो अच्छा करने की कोशिश करते हैं।'

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप