नई दिल्ली, जेएनएन। पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली की छवि एक आक्रामक कप्तान के तौर पर रही। भारतीय क्रिकेट को अपनी आक्रामकता से उन्होंने अलग पहचान दिलाई। पूर्व साउथ अफ्रीका कप्तान ग्रीम स्मिथ ने बताया कि सौरव बहुत ही ज्यादा जुनूनी कप्तान थे और उनको छेड़ना भारी पड़ता था क्योंकि वह किसी को भी कभी भी माफ नहीं करते थे बल्कि हमेशा ही पलटकर जवाब दिया करते थे।

स्टार स्पोर्ट्स के शो क्रिकेट कनेक्टेड पर ग्रीम स्मिथ ने कहा, "आपको पता है अगर आप दादा को छेड़ते तो आपको हमेशा ही वो इसका जवाब जरूर देते थे। अब तो मैं दादा के साथ काफी वक्त बिता चुका हूं। खास कर प्रशासन में, हमारी फोन पर काफी बातें होती है। वह हमेशा ही बेहद शांत और काफी अप्रोच करने वाले होते हैं, हमेशा ही ज्यादा से ज्यादा अच्छी बातें करने में रुचि रखते हैं।" 

 

स्मिथ ने सौरव गांगुली की लॉर्ड्स में किया गया वो यादगार सेलिब्रेशन याद किया जिसमें उन्होंने टी शर्ट उतारा था। भारतीय टीम ने नेटवेस्ट ट्रॉफी फाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ 2002 में हारे हुए मुकाबले को 2 विकेट से जीता था। उन्होंने कहा, "मुझे लगता है हम सभी को वो सेलिब्रेशन याद है, दादा को इस तरह से देखना यह वाकई शानदार दृश्य था। भले ही इसका मजाक बनाया गया हो लेकिन इस सेलिब्रेशन में जैसा जूनुन नजर आया था वो शानदार था।" 

"यह दर्शाता है कि भारत की जीत उनके लिए कितनी मायने रखती थी खासकर इंग्लैंड के नेटवेस्ट ट्रॉफी में मिली चुनौतियों को पार पाना अहम था। घर के बाहर आकर जीत हासिल करने से भारतीय क्रिकेट को नई दिशा मिली। मुझे लगता है कि वो एक दृश्य ही है जिसकी वजह से हम सभी आज इसकी चर्चा कर रहे हैं।" 

 

Posted By: Viplove Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस