नई दिल्ली, जेएनएन। इंडियन प्रीमियर लीग की सबसे अनुभवी फ्रेंचाइजी टीम चेन्नई सुपर किंग्स हैं। इसमें कप्तान महेंद्र सिंह धौनी, ऑलराउंडर शेन वॉटसन और ड्वेन ब्रावो जैसे उम्र दराज खिलाड़ी हैं लेकिन फिर टीम के प्रदर्शन पर उम्र का असर बिल्कुल नहीं नहीं आता। ब्रावो ने बताया कि कैसे धौनी खुद उनको बुढ़ा कहकर चिढ़ाते हैं।

ब्रावो ने इंस्टाग्राम लाइव पर बात करते हुए बताया कि कैसे धौनी उनको बूढ़ा कहते हुए चिढ़ाया करते थे। "वो पूरे सीजन में मुझे कहते रहे कि मैं एक बुढ़ा आदमी हूं। मैं एक बूढ़ा आदमी हूं और मैं बहुत धीमा हूं। मैंने उनको कहा, मैं आपको विकटों के बीच दौड़ लगाने की चुनौती देता हूं। उन्होंने कहा कोई मौका ही नहीं बनता। मैंने फिर कहा हमने कहा था कि इस टूर्नामेंट के बाद हम ऐसा करेंगे।" 

धौनी ने ब्रावो को दौड़ में हराया था

"मैंने कहा, मैं टूर्नामेंट के बीच में ऐसी कुछ नहीं करना चाहता नहीं तो हम दोनों में से किसी एक की तो मांसपेशी जरूर खिंच जाएगी। हमने फाइनल के बाद ऐसा किया था और यह बेहद ही नजदीकी रेस थी, बहुत ही ज्यादा नजदीकी। उन्होंने मुझे हरा दिया। वह एक अच्छे धावक हैं और वो काफी तेज भी हैं।"

कप्तान और कोच ने जताया है भरोसा 

"मुझे मेरे कप्तान एम एस और कोच स्टीफन फ्लेमिंग से काफी भरोसा मिला है। वो मुझे मैरे जैसे रहने की आजादी देते हैं। कभी कभी मैं डेथ ओवर में गेंदबाजी करता हूं और काफी रन भी पड़ जाते हैं। अलग अलग टीमों, अलग अलग कप्तानों और बल्कि कमेंट्री में भी वो कहते हैं अब ब्रावो को छोड़कर आगे बढ़ने का समय आ चुका है। डेथ ओवर्स में किसी और को गेंदबाजी के चुना जाए।"  

"सीएसके ने हमेशा ही मेरी डेथ ओवर में गेंदबाजी करने की क्षमता पर विश्वास जताया है। इसका फायदा भी मिला है। मैं कह सकता हूं, ज्यादातर मौकों पर आप अपना बेहतर देने में कामयाब होते हैं। टॉप बल्लेबाजों के खिलाफ चीजों हमेशा आपके हक में नहीं जाती है लेकिन फिर भी मुझे अपने टैलेंट पर पूरा भरोसा है।"   

Posted By: Viplove Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस