नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने कहा कि 36 वर्ष की उम्र में भी धौनी अपने से दस वर्ष छोटे खिलाड़ियों यानी 26 वर्ष के खिलाड़ी जैसा प्रदर्शन कर रहे हैं। फिलहाल भारतीय टीम में धौनी का कोई विकल्प नहीं है और उनकी जगह किसी और को लाने के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता। शास्त्री ने कहा कि धौनी पर टिप्पणी करने वाले को उनके अंदर खामी निकालने से पहले 36 वर्ष की उम्र में अपने करियर के बारे में सोचना चाहिए। धौनी ने श्रीलंका के खिलाफ बल्ले और विकेट के पीछे अपनी कीपिंग से अपने आलोचकों को करारा जबाव दिया है। 

शास्त्री ने कहा कि हम मुर्ख नहीं है। मैं पिछले 30-40 वर्ष से क्रिकेट देख रहा हूं। विराट इस टीम के साथ लगभग एक दशक से जुड़े हैं। हमें पता है कि इस उम्र में भी धौनी 26 वर्ष के क्रिकेटर को हरा सकते हैं। धौनी पर टिप्पणी करने वाले ये भूल जाते हैं कि उन्होंने भी क्रिकेट खेला था। 

धौनी विकेट के पीछे जितने तेज हैं उसका कोई मुकाबला नहीं है और भारतीय क्रिकेट टीम के चीफ सेलेक्टर एमएसके प्रसाद ने साफ कर दिया था कि कोई भी युवा विकेटकीपर उनके जैसा नहीं है। वहीं शास्त्री ने भी पहले धौनी का बचाव किया था।

शास्त्री ने कहा कि धौनी के खेल पर सवाल उठाने वाले अगर खुद को आईने में देखकर अपने आप से सवाल पूछना चाहिए कि वो 36 वर्ष की उम्र में कैसे थे। वो दो रन जितनी देर में दौड़ पाते धौनी उतनी देर में तीन रन दौड़ जाएंगे और वो मैच को खत्म करके आते हैं। तभी उन्होंने दो विश्व कप जीता है और उनका औसत 51 का है। आज वनडे टीम में धौनी को रिप्लेस करने वाला कोई खिलाड़ी नहीं है। वो दुनिया के महान क्रिकेटर हैं। सच्चाई ये है कि वो टेस्ट क्रिकेट नहीं खेलते हैं इसका मतलब है कि वो 2019 विश्व कप तक जितना संभव हो सके उतना क्रिकेट खेलना चाहते हैं। 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप