नई दिल्ली, स्पोर्ट्स डेस्क। टेस्ट क्रिकेट की लोकप्रियता को बढ़ाने के लिए रावलपिंडी टेस्ट जैसे मैच लगातार होने रहने चाहिए। इस तरह के मैच टेस्ट क्रिकेट की खूबसूरती को सामने लाती है और इसका श्रेय इंग्लैंड टीम को जाना चाहिए।

यदि इंग्लैंड की टीम यह टेस्ट मैच जीत सकी तो उसके पीछे उनके "बैजबॉल" क्रिकेट स्टाइल का बड़ा योगदान रहा। बैजबॉल आज इतना लोकप्रिय हो चला है कि बाकी टीम भी इसे अपनाना चाहती है। इसी को लेकर इंग्लैंड के पूर्व खिलाड़ी डेविड लॉयड ने कहा है कि इंग्लैंड के अलावा भारत ऐसी टीम है जो इस तकनीक को अपना सकती है।

उन्होंने डेली मेल के एक कॉलम में लिखा कि "यह पूरी तरह से नया नहीं है। 90 में ऑस्ट्रेलिया और उससे पहले वेस्टइंडीज की टीम में भी ऐसे स्ट्रोक मेकर्स खिलाड़ी थे। मैं मानता हूं कि इस स्टाइल को टीम इंडिया अपना सकती है। उनके पास सारे टूल्स हैं। इस बात को लेकर संदेह है कि भारतीय बल्लेबाज आंकड़ों पर चलते हैं लेकिन विराट कोहली ऐसे हैं जो इसे अपनी टीम में ला सकते हैं।"

हिट है 'बैजबॉल' तकनीक

इंग्लैंड टीम ने ब्रैंडन मैकुलम और बेन स्टोक्स के नेतृत्व में जबसे टेस्ट क्रिकेट में इस तकनीक को अपनाया है तब से लगातार इंग्लैंड टीम को फायदा हुआ है। इंग्लैंड टीम ने इस दौरान 8 टेस्ट मैच खेले हैं और 7 में उसे जीत मिली है। उसमें से एक रावलपिंडी टेस्ट मैच था, जहां कई वर्ल्ड रिकॉर्ड बने।

Edited By: Sameer Thakur

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट