नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी इंटरनेशनल क्रिकेट खेलेंगे या नहीं, ये अलग विषय है, क्योंकि वे एक साल से क्रिकेट से दूर हैं। ऐसे में उनके विकल्प के तौर पर भारतीय टीम के पास मौजूदा समय में तीन विकेटकीपर बल्लेबाजों का विकल्प है। हालांकि, इनमें से एक विकेटकीपर सिर्फ टेस्ट क्रिकेट के लिए जाना जाता है। ऐसे में क्या बाकी दो विकल्प को हम तीनों फॉर्मेट में बनाकर रख सकते हैं। इस पर बात की है ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज ब्रैड हॉग ने।

कंगारू टीम के पूर्व ऑलराउंडर ब्रैड हॉग ने अपने यूट्यूब चैनल पर बात करते हुए रिषभ पंत, रिद्धिमान साहा और केएल राहुल को लेकर बात की। उन्होंने कहा, "मैं पहली इस बात को बता देना चाहता हूं कि कौन कितना अच्छा विकेटकीपर है। रिद्धिमान साहा वास्तव में अच्छे विकेटकीपर हैं, क्योंकि वे गेंद का आखिरी समय तक इंतजार करते हैं और अपने ग्लव्स को नीचे रखते हैं। ऑन साइड में भी उनकी पकड़ अच्छी है और वे अच्छी स्टंपिंग भी अपने कद की वजह से करते हैं।"

उन्होंने आगे कहा, "केएल राहुल ने पिछले साल शॉर्ट फॉर्मेट में मिले विकेटकीपरिंग के अवसर को भुनाया और दिखाया है कि वे भी अच्छा कर सकते हैं, लेकिन साहा की तुलना में वे थोड़े स्लो विकेटकीपर हैं, क्योंकि उनकी हाइट साहा से ज्यादा है। वह लेग साइड पर थोड़े स्लो रहते हैं। पंत थोड़ा अधिक सपाट हैं। उसके हाथ कठोर हैं और वह अन्य दो की तुलना में गेंद को छीनने की कोशिश करते हैं।" इसलिए इन तीनों में कौन सा विकेटकीपर तीनों फॉर्मेट के लिए योग्य है?

इस बारे में ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज ने कहा, "टेस्ट में मेरे पास केएल राहुल नहीं होगा, क्योंकि उन्होंने प्रथम श्रेणी के स्तर पर पर्याप्त विकेटकीपिंग नहीं की है। इससे उनकी बल्लेबाजी पर दबाव पड़ेगा, मुझे डर है कि अतिरिक्त कार्य भार के कारण उनकी बल्लेबाजी गिर जाएगी। ऐसे में आपको साहा या पंत के साथ जाना होगा। साहा की तुलना में पंत की बल्लेबाजी अधिक विस्फोटक है। यदि आप भारत के शीर्ष क्रम को देखते हैं, तो उनके शीर्ष पांच विश्व में सबसे बड़े हैं।"

ब्रैड हॉग ने कहा, "आपको अपने नंबर 7 के बल्लेबाज से क्या चाहिए, जो खेल से बाहर निकलकर जल्दी हो सके उतने रन बनाए और यह खेल को आगे बढ़ाता रहे। गेंदबाजों को 20 विकेट लेने का अधिक समय देता है, जिसकी आपको टेस्ट मैच में जरूरत होती है। इसलिए, मेरे लिए भले ही पंत को कुछ स्टम्पिंग परेशान करती हों और उसमें साहा निपुण हों, लेकिन बल्लेबाजी को देखते हुए पंत को साहा से बेहतर स्थिति में रखा जा सकता है।" हॉग ने ये भी कहा है कि अगर पंत अपने पर काम करते हैं तो वे अगले 2 या 3 साल में भारत के लिए तीनों फॉर्मेट में अच्छा कर सकते हैं, जिसमें साहा को बैकअप के तौर पर रखा जा सकता है।

Posted By: Vikash Gaur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस