लंदन, आइएएनएस। जिंबाब्वे के पूर्व क्रिकेटर एंडी फ्लावर ने इंग्लैंड के मुख्य कोच के रूप में अपने समय के दौरान इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर केविन पीटरसन के साथ अपने संबंधों के बारे में रहस्योद्घाटन किया है।

2012 में इंग्लैंड की क्रिकेट को हिला देने वाले कुख्यात 'टेक्स्टगेट' घोटाले के बाद पीटरसन के साथ फ्लावर के रिश्ते में खटास आ गई थी। 2013-14 की ऑस्ट्रेलिया में खेली गई एशेज सीरीज में इंग्लैंड के 0-5 से हारने के बाद फ्लावर ने मुख्य कोच के पद से इस्तीफा दे दिया था। फ्लावर के जाने के कुछ ही दिन बाद पीटरसन को बर्खास्त कर दिया गया था।

बाद में 2014 में पीटरसन ने अपनी आत्मकथा में दावा किया था कि उन्हें फ्लावर के कार्यकाल के दौरान इंग्लैंड की हार के लिए बलि का बकरा बनाया गया। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि उन्हें ड्रेसिंग रूम में धमकाया गया था। अपनी किताब 'केपी : द ऑटोबायोग्राफी' में उन्होंने 2009 में टीम के कोच बनने वाले एंडी फ्लावर का जिक्र किया और उनके कार्यकाल को संक्रामक रूप से खराब बताया।

टॉकस्पो‌र्ट्स के लिए क्रिकेट पॉडकास्ट पर फ्लावर ने कहा, 'जब मैं अपने पिछले अनुभवों को देखता हूं तो मुझे लगता है कि मैं जानता था कि मैं कुछ चीजों को बेहतर कर सकता था। मैं यह कहने वाला था कि मुझे यकीन है कि केविन खुद के बारे में और चीजों में बाधा डालने के बारे में ऐसा ही सोच सकते हैं, लेकिन वास्तव में मुझे इस पर यकीन नहीं है। लेकिन, मुझे पता है कि मैं थोड़ी समझदारी और कोशिश के साथ केविन के साथ बेहतर संबंध बना सकता था।'

एंडी फ्लावर के मुताबिक वो केविन पीटरसन के साथ अपने रिश्तों को सुधार सकते थे, लेकिन उन्होंने शायद पहल करने में देर कर दी। केविड पीटरसन इंग्लैंड के विवादित क्रिकेटरों में से एक रहे थे और उनका कई अन्य खिलाड़ी व बोर्ड के साथ भी मतभेद हुआ था। हालांकि वो इंग्लैंड क्रिकेट टीम के बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक रहे।

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस