कृषि प्रधान क्षेत्र होने के बाद भी राज्य ने कभी आर्थिक तंगी नहीं देखी, यही कारण है कि राज्य की राजधानी रायपुर में लगातार समृद्धि बढ़ती जा रही है। चाहे धान का बोनस हो या तेंदूपत्ता पर मिलने वाला बोनस, मैदानी और आदिवासी इलाके के लोगों को समय- समय पर आर्थिक मजबूती मिलती ही रही है।

अपने शहर को शानदार बनाने की मुहिम में शामिल हों, यहां करें क्लिक और रेट करें अपनी सिटी

इस संपन्नता का असर रायपुर के सर्राफा, कपड़ा बाजार पर दिखता है, तो वहीं औद्योगिक सेक्टर में भी खुशहाली नजर आती है। रायपुर के आसपास उद्योग से जुड़ी सेवाओं का विस्तार और विकेंद्रीकरण किया गया है। इससे बिजनेसमैन को सुविधा मिल गई, वहीं बाजार भी एक जगह न होकर चारों ओर जनता तक पहुंच गया।

बिजली की सर्वसुलभता ने उद्योगों के लिए संजीवनी का काम किया है। कम से कम बिजली संकट के कारण किसी उद्योग की हालत खस्ता नहीं हुई। राजधानी बनने के बाद रायपुर के आर्थिक सेक्टर में जितनी तेजी आयी है, वह पहले कभी नहीं देखी गई।

राज्य सरकार और स्थानीय निकायों ने भी उद्योगों की बुनियादी आवश्यकतओं का ख्याल रखा। इसी नतीजा है कि आज उद्योग के सभी छोरों पर सुविधाएं मुहैया हैं। ऑटोमोबाइल, कपड़े, लाइफस्टाइल, सर्राफा, बैंकिंग के साथ एफएमसीजी के क्षेत्र में भी रायपुर आज बड़ी तेजी के साथ बड़े महानगरों की पंक्ति में खड़ा होने के लायक बनता जा रहा है।

 

बड़े मॉल्स ने बदली तस्वीर

तेजी से बदलते लाइफ स्टाइल और बढ़ती क्रय क्षमता को देखते हुए हर बड़ी कंपनी यहां अपना व्यवसाय खोलना चाह रही है। वर्तमान में रायपुर में चार बड़े शॉपिंग मॉल्स हैं, जहां सभी बड़ी कंपनियां हैं। शॉपिंग मॉल्स के साथ ही यहां एफएमसीजी में रिटेल चेन वाले हाइपर मार्केट के बिग बाजार, डी-मार्ट, बेस्ट प्राइस जैसे संस्थानों के साथ ही लोकल स्तर पर भी बड़े-बड़े सुपर बाजार हैं।

खास बात यह है कि ये सभी रायपुर के बढ़ते विस्तार को देखते हुए शहर के अंदर ही क्षेत्रों के अनुसार अपना रिटेल चेन खोल रहे हैं। रायपुर में ही एफएमसीजी के रिटेल चेन में ही छोटी-बड़ी सभी कंपनियां मिलाकर दर्जनभर से ज्यादा आउटलेट्स हैं।

एफएमसीजी के रिटेल के साथ ही बड़ी-बड़ी कपड़ा कंपनियों ने भी यहां पैर जमा लिए हैं और कई देशी-विदेशी कंपनियां आने के लिए तैयार हैं। पिछले कुछ सालों से तो रायपुर बड़े-बड़े सेलिब्रिटियों के लिए भी पहली पसंद बनता जा रहा है।

सेलिब्रिटीज यहां अपनी फिल्में, एलबम प्रोमोट करने के लिए आने लगे हैं। सभी बड़े होटल्स की सुविधा होने से यहां अंतरराष्ट्रीय स्तर के हॉकी मैच भी हो चुके हैं। आईपीएल क्रिकेट मैच ने होटल सेक्टर को बड़ा स्कोप मुहैया करा दिया है।

ऑटोमोबाइल की दिग्गज कंपनियों को रायपुर भाया
रायपुर में इन दिनों दोपहिया कंपनियों के साथ ही सभी बड़ी चारपहिया कंपनियां भी आ चुकी हैं। ऑडी, मर्सिडीज, बीएमडब्लयू और जगुआर के साथ ही वोल्वो जैसी कंपनी ने भी पिछले साल यहां कदम रख लिया है। इनके साथ ही इलेक्ट्रॉनिक्स की भी सभी बड़ी कंपनियां हैं। कारोबार की दृष्टि से हर साल नया रिकॉर्ड बनता जा रहा है।

सर्राफा में चमके, तो ज्वेलरी कोर्स भी
सर्राफा क्षेत्र में स्थानीय स्तर पर बड़े संस्थानों के साथ ही महानगरों के बड़े-बड़े सर्राफा संस्थान भी यहां के लोगों की बढ़ती क्रय क्षमता को देखते हुए यहां आउटलेट्स खोल रहे हैं। पंडरी क्षेत्र में जल्द ही यहां मुंबई की एक बड़ी ज्वेलर्स कंपनी भी आने वाली है।

इनके साथ ही लाइफ स्टाइल और फैशन डिजाइनिंग के बड़े-बड़े संस्थान भी आ चुके हैं, जो यहां आयोजन भी कर रहे हैं। सर्राफा सेक्टर चौतरफा बढ़ता जा रहा है, इस कारण रोजगार के मौके भी बढ़ गए हैं। यही कारण है कि सरकार ने पिछले बजट में रायपुर में जैम और ज्वेलरी का कोर्स खोलने का फैसला लिया।

हवाई कनेक्शन ने दी ऊंची उड़ान
बिजनेस के क्षेत्र में बड़ी तेजी से उभरने का एक कारण यह भी है कि रायपुर की इन दिनों हर बड़े शहर के साथ हवाई कनेक्विटी बढ़ती जा रही है। दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और बेंगलुरु के साथ ही अब रायपुर की हवाई कनेक्टिविटी भोपाल, इंदौर, पटना, लखनऊ, हैदराबाद, पुणे, विशाखापट्टनम तक है।

इनके साथ ही आने वाले दिनों में जल्द ही रायपुर से जयपुर, इलाहाबाद के साथ ही अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट भी शुरू होने के संकेत हैं। कुछ दिनों में ही रायपुर विमानतल का लंबा रनवे खोल दिया जाएगा। इससे एक साथ छह विमान एक समय में एयरपोर्ट पर मौजूद रहे सकेंगे। फिर अंतरराष्ट्रीय विमान सेवा शुरू होने की संभावना है। इससे निश्चित ही औद्योगिक सेक्टर को फायदा होगा।

धनतेरस का बाजार बताता है तरक्की
राजधानी में पिछले चार वर्षों से लगातार कारोबार बढ़ता जा रहा है। हर दीवाली में ऑटोमोबाइल, सर्राफा, बर्तन, कपड़े, रियल इस्टेट सहित अन्य सेक्टरों का कारोबार अकेले राजधानी में ही 400 करोड़ पार हो गया है। चार सालों में इसे दोगुना बढ़ोतरी कहा जा सकता है। त्योहारी सीजन के साथ ही आम दिनों में भी रायपुर का कारोबार बढ़ते जा रहा है।

ये मार्केट बस चुके हैं-
रायपुर के समीप ही डूमरतराई में सब्जी मार्केट, थोक अनाज मार्केट, बर्तन, होजियरी आदि जा चुके हैं। आने वाले दिनों में रायपुर के आसपास ही कपड़ा मार्केट भी जाने वाला है। इसके साथ ही ऐसी कोशिश की जा रही है कि इलेक्ट्रॉनिक्स और ऑटोमोबाइल मार्केट भी एक स्थान में आ जाए।

आसपास के राज्यों से भी जुड़ा है
भिलाई-दुर्ग, बिलासपुर, राजनांदगांव के साथ ही कारोबार के लिए रायपुर जगदलपुर से भी जुड़ा हुआ है। इसके साथ ही ओडिशा, मध्य प्रदेश, झारखंड आदि राज्यों से भी कारोबार जुड़ा हुआ है। कारोबार की दृष्टि से इसलिए यहां का कारोबार बड़ी तेजी से बढ़ता जा रहा है। 

स्टील सेक्टर ने भी कमाया नाम
रायपुर के समीप ही उरला-सिलतरा में सभी बड़े स्टील उद्योग और प्लांट है। हीरा ग्रुप के प्लांट के साथ ही रायपुर से लगे मंदिर हसौद में जिंदल, मोनेट जैसे ग्रुपों के प्लांट हैं। बताया जा रहा है कि आने वाले दिनों में और भी उद्योग व प्लांट आने वाले हैं।

अपने शहर को शानदार बनाने की मुहिम में शामिल हों, यहां करें क्लिक और रेट करें अपनी सिटी

By Nandlal Sharma