राजधानी ने शिक्षा की नई इबारत गढ़ी है। स्कूली शिक्षा हो या उच्च शिक्षा, दोनों में विकास की इबारत लिख दी। न सिर्फ उपलब्धियां हासिल हुई , बल्कि शिक्षा की दिशा व दशा बदली । अब नए सालों में भी नये संस्थान खुलने की उम्मीदें भी हैं।

इंजीनियरिंग में एनआईटी, ट्रिपल आईटी, मेडिकल में एम्स, प्रबंधन में आईआईएम, होटल मैनेजमेंट संस्थान, प्लास्टिक इंस्टीट्यूट व ऑक्सीरीडिंग जोन से शिक्षा के लिए बेहतर वातावरण विकसित किया है। इतना सब- कुछ होने के बाद भी अब देशभर में रायपुर की पहचान बनाने की जरुरत है।

अपने शहर को शानदार बनाने की मुहिम में शामिल हों, यहां करें क्लिक और रेट करें अपनी सिटी

स्मार्ट और केंद्रीय विद्यालय

रायपुर में तीन केंद्रीय विद्यालय, दो प्रयास विद्यालय, 100 स्मार्ट स्कूल, सड्डू व डूंडा में हॉस्टल, सेंट्रल लाइब्रेरी ,59 हाई स्कूल, 131 हायर सेकंडरी, प्राइमरी-मिडिल समेत 2500 स्कूल रायपुर में हैं। अंग्रेजों के जमाने से संचालित प्रोफेसर जेएन पाण्डेय स्कूल ,सप्रे शाला स्कूल, सेंट पॉल स्कूल, राजकुमार कॉलेज शहर की शान बढ़ा रहे हैं।

अन्य निजी स्कूलों में रेडियंट द वे, कांगेर वैली एकेडमी, कृष्णा पब्लिक स्कूल, मिंटू शर्मा हायर सेकेंडरी स्कूल, सेंट जेवियर स्कूल, सालेम स्कूल आदि प्रमुख हैं। जेएन पांडे स्कूल ने तो देश को स्वर्गीय शंकरदयाल शर्मा जैसे राष्ट्रपति सहित कई प्रतिभा दी है।

कृषि और इंजीनियरिंग में भी अव्वल

इंदिरा गांधी कृषि विवि परिसर के कॉलेज में 175 सीट , हार्टीकल्चर कॉलेज माना में 45 सीट, कामधेनु विवि के अंतर्गत रायपुर के सेंट्रल इंडिया का एकमात्र डेयरी कॉलेज में 60 सीटें हैं। यहां बायो कंट्रोल लैब, एग्रीकल्चर का फैब्रिक सेंटर, स्वाइल हेल्थ सेंटर प्रमुख है। नया रायपुर में 80 सीट के साथ ट्रिपल आईटी, एनआईटी में 950 इंजीनियरिंग की 18 ब्रांचों में पढ़ाई व पीजी के लिए भी 300 सीटें हैं।

 

गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज सेजबहार में 5 ब्रांचों में मैकेनिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स एंड टेलीकम्यूनिकेशन और कम्प्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग में 60-60 सीटें, रायपुर में 15 इंजीनियरिंग कॉलेजों में 4 हजार 738 सीटें हैं। सबसे ज्यादा 645 सीटों वाला शंकराचार्य निजी कॉलेज स्थापित है।

लॉ और मैनेजमेंट की पढ़ाई

उपरवारा नया रायपुर में 180 सीट के साथ 2003 से हिदायतुल्लाह नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी संचालित है। बीए एलएलबी के आनर्स के 180, एलएलएम के 45 और पीएचडी के लिए 30 सीटें हैं। सेजबहार रायपुर में 210 सीट के साथ मैनेजमेंट पढ़ने के लिए साल 2010 में आईआईएम स्थापित किया गया। भनपुरी में देश का 28 वां सीपेट यानी सेंटर फॉर प्लास्टिक इंस्टीट्यूट और होटल मैनेजमेंट के लिए नया रायपुर के उपरवारा में संस्थान खोला गया है।

विवि और बढ़े नये सेंटर

पंडित रविशंकर शुक्ल विवि समेत पत्रकारिता में कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विवि, मेडिकल में आयुष विवि, कृषि में इंदिरा गांधी कृषि विवि, लॉ में एचएनएलयू समेत निजी विवि में मैट्स यूनिवर्सिटी,अमिटी यूनिवर्सिटी, कलिंगा यूनिवर्सिटी, आईटीएम यूनिवर्सिटी, आईसीएफएआई यूनिवर्सिटी स्थित है। रविवि में सेंटर फॉर बेसिक साइंस के लिए अलग से 40 सीटों पर राष्ट्रीय स्तर पढ़ाई हो रही है।

मेडिकल के क्षेत्र में राष्ट्रीय संस्थान एम्स यह न सिर्फ मरीजों को इलाज उपलब्ध करवा रहा है, बल्कि मेडिकल शिक्षा का बेहतरीन विकल्प बन रहा है। रायपुर में आयुर्वेद कॉलेज 60 सीट, मेडिकल कॉलेज 150 सीट और एक डेंटल कॉलेज 100 सीटों के लिए पढ़ाई होती, होम्योपैथी व यूनानी के लिए भी एक-एक कॉलेज है।

रायपुर में साधारण पढ़ाई के लिए 35 कॉलेज हैं। युवाओं के कौशल विकास के लिए लाइवलीहुड कॉलेज है। रायपुर में प्रमुख कॉलेजों में छत्तीसगढ़ कॉलेज, साइंस कॉलेज, डिग्री गर्ल्स कॉलेज, महंत कॉलेज आदि हैं।

इस साल इस तरह बढ़ेगी सुविधा

- शंकर नगर में राज्य स्तरीय स्कूली बच्चों के लिए सेंट्रल लाइब्रेरी

 - अंग्रेजी माध्यम के आठ स्कूल नये स्कूल, भाटागांव, समोदा, गुढ़ियारी और बीरगांव में नया कॉलेज

By Nandlal Sharma