रायपुर, ब्यूरो। स्टील, एनर्जी व ट्रेडिंग का काम करने वाले रतनलाल अग्रवाल और उनका परिवार मंगलवार को दुल्हन लेकर लौटा तो गु़िढयारी स्थित घर में आयकर विभाग की टीम छापे की कार्रवाई करती मिली। यह देख परिवार के अलावा नाते-रिश्तेदारों में खलबली मच गई। आनन-फानन में परिवार के लोग दूसरे ठिकानों पर पहुंचे, जहां पहले से आयकर की टीम मौजूद थी। खरोरा की राइस मिल में रतनलाल के एक रिश्तेदार ने आयकर अधिकारी के साथ झूमाझटकी कर दी, तब यहां आयकर अमले को पुलिस बुलानी प़डी। अग्रवाल परिवार गोयल ग्रुप के नाम से कारोबार करता है। इस ग्रुप के रायपुर में दस और कोलकाता में तीन ठिकानों पर छापा मारा गया है।
गु़िढयारी की अनाज मंडी में अग्रवाल परिवार की नीचे दुकान और ऊपर मकान है। सोमवार को परिवार की कुछ महिलाओं को छा़े$डकर सभी लोग भतीजे की शादी में गए थे। मंगलवार सुबह बारात लौटने पर महिलाएं स्वागत की तैयारी में जुटी थीं, तभी सा़$ढे छह बजे आयकर विभाग की टीम धमक गई। मकान का गेट बंद कर छापे की कार्रवाई शुरू कर दी। करीब दो घंटे बाद परिवार के लोग दुल्हन को लेकर लौटे, तब खलबली मच गई। आयकर टीम ने दूल्हा-दुल्हन समेत कुछ ही लोगों को मकान में प्रवेश दिया। बाकी लोगों को बाहर ही रोका तो आयकर अधिकारियों के साथ अग्रवाल परिवार की जमकर बहस हुई। यहां आयकर टीम ने गु़ि$ढयारी थाने से पुलिस बुला ली। कुछ ही देर में बारात में शामिल अग्रवाल परिवार के लोगों को पता चला कि उनके मकान और व्यवसायिक प्रतिष्ठानों पर भी छापा प़$डा है तो वे लोग अपने-अपने ठिकानों की ओर भागे।
खरोरा में कैलाश अग्रवाल के बेटे ने मकान और राइस मिल में आयकर की टीम को देखा तो एक अधिकारी के साथ अभद्रता कर दी। यहां भी आयकर अधिकारियों को पुलिस बुलानी प़डी। समता कॉलोनी, टाटीबंध, शंकरनगर में भी दिनभर आयकर की टीम सर्च में जुटी रही। आयकर अधिकारियों ने बताया कि बैंक खाते, कारोबार से जु़$डे सारे दस्तावेज जब्त किए जा रहे हैं। छापे में आयकर विभाग के 50 अधिकारी लगाए गए हैं। बुधवार शाम तक बेनामी संपत्ति का खुलासा हो सकता है। रतनलाल कारोबारी के अलावा गु़ि$ढयारी हनुमान मंदिर ट्रस्ट और महावीर शिक्षा प्रसार समिति के अध्यक्ष भी हैं। इनकी भाजपा के एक ब़$डे नेता से रिश्तेदारी बताई जा रही है।
रतनलाल और अग्रवाल परिवार के ठिकाने
जगदीश प्रसाद गजानंद एंड फर्म, गोयल एनर्जी एंड स्टील प्रायवेट लिमिटेड टाटीबंध, गोयल ट्रेडर्स गु़ि$ढयारी, गोयल भतीजे कैलाश अग्रवाल की खरोरा में जेसी राइस मिल। रमन अग्रवाल का गु़ि$ढयारी में मकान, इनके बेटों का तेंदुआ गांव और शंकरनगर में मकान, रतनलाल के भतीजे कैलाश का समता कॉलोनी और खरोरा में मकान।
पिछले साल दस करा़ेड किया था सरेंडर
आयकर अधिकारियों ने बताया कि पिछले साल भी रतनलाल के ठिकानों पर आयकर विभाग ने छापा मारा था। उस वक्त गोयल ग्रुप को दस करा़ेड सरेंडर करना प़डा था। छत्तीसग़ढ रीजन के मुख्य आयकर आयुक्त केसी घुमरिया ने बताया कि अभी 40 करा़ेड से अधिक की बेनामी संपत्ति की और जानकारी मिली। घुमरिया ने संभावना जताई है कि इस बार गोयल ग्रुप को 50 करा़ेड रुपए तक सरेंडर करना प़ड सकता है।
कोलकाता के खातों से ब़डे ट्रांजेक्शन
आयकर आयुक्त घुमरिया ने बताया कि गोयल ग्रुप के तीन ठिकाने कोलकाता में हैं, जहां आयकर विभाग की टीम जांच कर रही है। विभाग की अन्वेषण शाखा को गोयल ग्रुप के कोलकाता के खातों से अनाप-शनाप ट्रांजेक्शन की जानकारी मिली थी। इसी आधार पर छापामार कार्रवाई शुरू की। घुमरिया ने आशंका जताई है कि ब़डे ट्रांजेक्शन हवाला कारोबार से जु़डे हो सकते हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस