रायपुर, ब्यूरो। भाजपा के वरिष्ठ नेता व राज्य सभा सदस्य सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि यूपी में राम मंदिर को छोड़ा गया तो भाजपा की सरकार बन पाना मुश्किल है। उन्होंने कहा कि भारत में 40 हजार मंदिर ता़ेडे गए पर हम सिर्फ अयोध्या, मथुरा और काशी ही मांग रहे। यह मुस्लिमों के लिए हमारी ओर से दिया जा रहा कृृष्णा पैकेज है। कृृष्ण ने कौरवों से पांच गांव मांगे थे, नहीं मिला। बाद में क्या हश्र हुआ हम सब जानते हैं। उन्होंने कहा राम मंदिर पर अगली सुनवाई में हर दिन सुनवाई की मांग रखूंगा ताकि दो महीने में मामला खत्म हो व छह महीने में मंदिर तैयार हो जाए। स्वामी राजधानी रायपुर में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के एक आयोजन में बोल रहे थे।
उन्होंने कहा भारत में रहने वाले सभी लोगों का डीएनए एक है। लोग मानेंगे कि उनके पूर्वज हिंदू थे तभी उन्हें हिंदुस्तानी माना जाएगा, वर्ना वे देश के नागरिक तो हैं पर हिंदुस्तानी नहीं। मुस्लिम आईएस के उग्रवाद की ओर जा रहे।

स्वामी ने कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट की तीन जजों की बेंच ने एएसआई के सर्वे के आधार पर माना है कि अयोध्या में मंदिर था। यह मामला अब सुप्रीम कोर्ट में पेंडिंग है। पिछले छह साल से सुनवाई नहीं हो रही थी तो मैंने पिटिशन दायर कर सुनवाई की मांग की। 1991 में उस समय की कांग्रेस सरकार ने कोर्ट में शपथपत्र दिया है कि अगर सर्वे में मंदिर होने के प्रमाण मिले तो सरकार जमीन दे देगी। अब मोदी सरकार को जमीन दे देना चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट में वर्तमान में कोई मुस्लिम जज नहीं हैं। मुसलमान जज का इंतजार है। फिर रोज सुनवाई के लिए आवेदन दूंगा। मामले में सुन्नी वक्फ बोर्ड ही विरोध कर रहा है बाकी कोई नहीं। हम कह रहे वे सरयू पर मस्जिद बना लें।

रांची से भुवनेश्वर व रायपुर के लिए विमान सेवा शीघ्र : जयंत

Posted By: Bhupendra Singh