Move to Jagran APP

Baloda Bazar Violence: 'सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने वालों पर होगी कड़ी कार्रवाई', CM विष्णुदेव साई ने दिया उपद्रवियों की गिरफ्तारी का आदेश

Baloda Bazar Violence छत्तीसगढ़ के बलौदाबाजार में 17 मई से चल रहा सतनामी समाज का प्रदर्शन सीबीआई जांच की मांग को लेकर सोमवार शाम को उग्र हो गया। प्रदर्शनकारियों ने सोमवार की शाम कलेक्टर और एसपी कार्यालयों में आग लगा दी। पथराव किया 200 से अधिक दोपहिया और करीब 50 चारपहिया वाहनों को फूंक दिया। लगभग एक घंटे तक बलौदाबाजार कलेक्टर परिसर व शहर के कई इलाकों में तोड़फोड़ की।

By Jagran News Edited By: Siddharth Chaurasiya Published: Mon, 10 Jun 2024 09:52 PM (IST)Updated: Mon, 10 Jun 2024 09:52 PM (IST)
प्रदर्शनकारियों ने लगभग एक घंटे तक बलौदाबाजार कलेक्टर परिसर व शहर के कई इलाकों में तोड़फोड़ की।

जागरण न्यूज नेटवर्क, बलौदाबाजार। छत्तीसगढ़ के बलौदाबाजार जिले में 17 मई से चल रहा सतनामी समाज का प्रदर्शन सीबीआई जांच की मांग को लेकर सोमवार शाम को उग्र हो गया। प्रदर्शनकारियों ने सोमवार की शाम कलेक्टर और एसपी कार्यालयों में आग लगा दी। पथराव किया, 200 से अधिक दोपहिया और करीब 50 चारपहिया वाहनों को फूंक दिया। लगभग एक घंटे तक बलौदाबाजार कलेक्टर परिसर व शहर के कई इलाकों में तोड़फोड़ की।

भीड़ को काबू में करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया। सौ से ज्यादा उपद्रवियों को गिरफ्तार किया गया है। घटना की खबर मिलने पर रायपुर रेंज के आईजी अमरेश मिश्रा, बिलासपुर रेंज के आईजी संजीव शुक्ला समेत अतिरिक्त पुलिस बल मौके पर पहुंचा। मुख्यमंत्री विष्णुदेव साई ने आलाधिकारियों को तनाव कम करने और शांति बहाली के निर्देश दिए हैं।

जानकारी के अनुसार, 15 मई की देर रात सतनामी समाज के धार्मिक स्थल गिरौदपुरी धाम से करीब पांच किमी दूर मानाकोनी बस्ती स्थित बाघिन गुफा में लगे धार्मिक चिह्न जैतखाम को असामाजिक तत्वों ने क्षतिग्रस्त कर दिया था। पुलिस ने इस मामले में तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। लोगों का आरोप है कि पकड़े गए लोग असली आरोपित नहीं हैं और पुलिस दोषियों को बचा रही है।

उप मुख्यमंत्री विजय शर्मा ने रविवार को ही इस मामले की न्यायिक जांच की घोषणा की थी, लेकिन समाज के लोग सीबीआई जांच की मांग कर रहे थे। वे सोमवार दोपहर लगभग ढाई बजे ज्ञापन देने के लिए कलेक्टर परिसर पहुंचे थे। इस दौरान पुलिस ने उन्हें रोक दिया।

प्रदर्शनकारी और पुलिस बल के बीच झड़प शुरू हो गई। बैरिकेड को तोड़कर भीड़ कलेक्टर परिसर में पहुंच गई। लोगों ने पथराव के साथ गाड़ियों में तोड़फोड़ और आग लगाना शुरू कर दिया। इससे कलेक्टर परिसर के कई विभागों के दस्तावेज जलकर राख हो गए। आग बुझाने पहुंची दमकम की कई गाड़ियों को भी भीड़ ने आग के हवाले कर दिया। प्रदर्शन हिंसक होने के बाद सैकक्ड़ों कर्मचारियों और लोग फंसे हुए थे। उन्हें पुलिस ने कार्यालय के पीछे के रास्ते बाहर निकाला।

सतनामी समाज द्वारा शांतिपूर्ण आंदोलन का आह्वान किया गया था, लेकिन सभी ने उग्र होकर पुलिस पर पथराव किया। बैरिकेड तोड़कर कलेक्टर कार्यालय परिसर में प्रवेश किया। इसके बाद गाड़ियों में आग लगा दी। परिसर में भी तोड़फोड़ की गई।

- सदानंद कुमार, एसएसपी, बलौदाबाजार

अप्रिय स्थिति पर आईजी व कमिश्नर को तत्काल घटनास्थल पर पहुंचने के निर्देश दिए हैं। मुख्य सचिव और डीजीपी को तलब कर घटना की प्रारंभिक जानकारी ली एवं घटना की रिपोर्ट भी मांगी गई है। गिरौदपुरी की अमर गुफा मामले में पूर्व में ही न्यायिक जांच के लिए गृहमंत्री विजय शर्मा को निर्देशित किया जा चुका है। सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने वालों पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं और सभी से शांति व सौहार्द बनाए रखने की अपील की है।

विष्णु देव साय, मुख्यमंत्री- छत्तीसगढ़

17 मई से चल रहा था शांतिपूर्ण प्रदर्शन

जैतखाम तोड़े जाने से नाराज समाज के लोग कलेक्ट्रेट के पास स्थित दशहरा मैदान में बीते 17 मई से ही शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे। इसमें दूसरे राज्यों के सतनामी समाज के लोग भी शामिल हुए थे। 18 मई को कलेक्टर केएल चौहान और एसएसपी सदानंद कुमार को आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए ज्ञापन सौंपा था। सोमवार को प्रदर्शन के दौरान लोग सीबीआई जांच की मांग को लेकर लेकर उग्र हो गए। इसके बाद हालात बिगड़ते चले गए।

क्या है जैतखाम

जैत यानी जय और खाम यानी खंभा। जैतखाम मूलरूप से सतनामी पंथ के ध्वज का नाम है, जो उनके संप्रदाय का प्रतीक है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.