नई दिल्ली, पीटीआइ। प्राइवेट सेक्टर के बैंक आरबीएल बैंक ने बुधवार को मास्टरकार्ड पर लगे बैन के 2 महीने के बाद इसके प्रतिद्वंद्वी वीजा पेमेंट नेटवर्क पर क्रेडिट कार्ड जारी करना फिर से शुरू कर दिया है। आपको बता दें कि दो महीने पहले मास्टरकार्ड पर रेगुलेटरी बैन लगा दिया गया था। भारतीय रिजर्व बैंक ने डेटा लोकलाइजेशन रिक्वायरमेंट का अनुपालन नहीं करने के लिए इस साल 14 जुलाई को मास्टरकार्ड को कोई भी नया कार्ड जारी करने से प्रतिबंधित कर दिया था।

इस कदम से आरबीएल बैंक सहित कई बैंकों को झटका लगा था, जो अपने क्रेडिट कार्ड बिजनेस के लिए पूरी तरह से अमेरिकी भुगतान कंपनी पर निर्भर थे। आरबीएल बैंक ने कहा कि उसने 14 जुलाई को ही वीजा के साथ साइन अप किया था, और नए जारी करने को फिर से शुरू करने के लिए रिकॉर्ड समय में प्रौद्योगिकी एकीकरण हासिल किया गया था।

आरबीएल बैंक के रिटेल बिजनेस के प्रमुख ने वीजा और टेक्नोलॉजी पार्टनर फिशर को धन्यवाद दिया और वित्त वर्ष 2022 में 12-14 लाख क्रेडिट कार्ड जारी करने के अपने लक्ष्य को पूरा करने का विश्वास व्यक्त किया। भारत के लिए वीजा के बिजनेस डेवलेपमेंट प्रमुख सुजई रैना ने कहा कि कंपनी का लक्ष्य डिजिटल भुगतान को सक्षम करना और ग्राहकों को आसानी से जारीकर्ताओं से क्रेडिट ऑफरिंग हासिल करने में मदद करना है।

क्रेडिट कार्ड कंट्रीब्यूटर्स के लिए रिटेल बुक में 37.5 फीसद का योगदान करते हैं, जिसकी इस सेगमेंट में 5 फीसद बाजार हिस्सेदारी है। जून तक इसकी क्रेडिट कार्ड बुक 17 फीसद बढ़कर 12,039 करोड़ रुपये हो गई थी और जुलाई तक 30.69 लाख कार्ड बकाया थे। बैंक ने अपने गाइडेंस में कहा था कि सितंबर के बीच तक, वह क्रेडिट कार्ड जारी करना फिर से शुरू कर देगा और एक महीने में औसतन 1 लाख कार्ड बनाने की उम्मीद है।

बेंचमार्क पर 0.59 फीसदी की बढ़त के मुकाबले आरबीएल बैंक का शेयर बीएसई पर 2.42 फीसदी बढ़कर 179.60 रुपये प्रति पीस पर कारोबार कर रहा था।

Edited By: Abhishek Poddar