नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। बैंक में दिए गए चेक कई बार खारिज हो जाते हैं, इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं। मसलन जिसने चेक जारी किया है उसके खाते में पर्याप्त बैलेंस न हो, चेक जारी करने वाले का सिग्नेचर बैंक में दिए सिग्नेचर से मेल नहीं खाता हो। ऐसी स्थिति में बैंक की ओर से चेक बाउंस के बारे में बताया जाता है। यदि अकाउंट में पर्याप्त बैलेंस न होने और गलत सिग्नेचर से चेक बाउंस होता है तो प्राप्तकर्ता और चेक जारी करने वाला दोनों से जुर्माना वसूला जाता है। चेक बाउंस का फीस एक बैंक से दूसरे बैंक में अलग-अलग हो सकता है।हम इस खबर में आपको स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया, आईसीआईसीआई बैंक और एचडीएफसी बैंक की ओर से चेक बाउंस होने पर वसूले जाने वाले चार्जेस के बारे में बता रहे हैं।

स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया चेक बाउंस चार्ज

चेक बाउंस होने पर एचडीएफसी की ओर से लिया जाने वाला जुर्माना

चेक बाउंस होने पर आईसीआईसीआई की ओर से लिया जाने वाला जुर्माना

Posted By: Nitesh