नई दिल्ली, जेएनएन। कोरोना वायरस और लॉकडाउन के चलते रोजगार पर बुरा असर पड़ा है। इसे देखते हुए केंद्र सरकार लोगों को फिर से अपने पैरों पर खड़ा होने का मौका दे रही है। ऐसे में अगर आप खुद का कारोबार शुरू करना चाहते हैं तो सरकार कई तरह से इसमें आपकी मदद कर सकती है। इसमें सबसे अहम है प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (Pradhan Mantri MUDRA Yojana)। यह योजना उन लोगों के लिए ज्‍यादा उपयोगी है, जिन्‍हें बैंकों के नियम पूरा नहीं कर पाने की वजह से अपना कारोबार शुरू करने के लिए बैंक लोन नहीं मिल पाता है। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत तीन चरणों में लोन दिया जाता है। आम तौर पर इसके तहत लोन की इसकी न्यूनतम ब्याज दर 12 फीसदी है।

शिशु लोन योजना -इस योजना के तहत दुकान आदि खोलने के लिए 50,000 रुपये तक का लोन लिया जा सकता है।

किशोर लोन योजना- इसके तहत 50,000 रुपए से 5 लाख रुपये तय का लोन मिलता है।

तरुण लोन योजना- छोटे उद्योगों के लिए तरुण लोन योजना है। इसमें 5 लाख से 10 लाख रुपये तक का लोन दिया जाता है।

कौन ले सकता है लोन

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना सिर्फ छोटे व्‍यापारियों और कारोबारियों के लिए है, जैसे, छोटी असेंबलिंग यूनिट, सेवा क्षेत्र की इकाइयां, दुकानदार, फल-सब्जी विक्रेता, ट्रक चालक, खाद्य-सेवा इकाइयां, मशीन परिचालन, लघु उद्योग, दस्तकार, फूड प्रोसेसिंग आदि के लिए इस योजना के तहत लोन लिया जा सकता है।

यहां से ले सकते हैं लोन

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत किसी भी सरकारी बैंक, ग्रामीण बैंक, सहकारी बैंक, प्राइवेट बैंक या विदेशी बैंकों से लोन लिया जा सकता है।

लोन के लिए ये कागजात चाहिए

अगर आप खुद का कारोबार शुरू करना चाहते हैं तो आपको मकान के मालिकाना हक या किराये के दस्तावेज, काम से जुड़ी जानकारी, आधार, पैन नंबर सहित कई अन्य दस्तावेज देने होंगे।

लोन पाने की पूरी प्रक्रिया

https://www.mudra.org.in/ वेबसाइट पर लोन एप्लीकेशन फॉर्म डाउनलोड करें। शिशु लोन के लिए फॉर्म अलग है। वहीं, तरुण और किशोर लोन के लिए फॉर्म एक ही है। लोन अप्लीकेशन फॉर्म में सारी जानकारियां (मोबाइल नंबर, आधार नंबर, नाम, पता ) भरें। बिजनेस कहां शुरू करना चाहते हैं, ये भी बताएं। इसके अलावा ओबीसी, एससी / एसटी श्रेणियों के आवेदकों को जाति प्रमाण पत्र प्रदान करना होगा। साथ ही दो 2 पासपोर्ट फोटो लगेगी। फॉर्म भरने के बाद बैंक में जाएं और सभी प्रक्रियाओं को पूरा करें। अंत में बैंक का ब्रांच मैनेजर आपसे कामकाज से बारे में जानकारी लेता है और उस आधार पर आपको PMMY लोन मंजूर करता है।

स्टैंडअप इंडिया योजना

इस योजना के तहत एंटरप्रेन्योरशिप को बढ़ावा दिया जाता है। इसमें 10 लाख रुपये से एक करोड़ रुपये तक का लोन मिलता है। आप सीधे बैंक शाखा, स्टैंडअप इंडिया पोर्टल और अग्रणी जिला प्रबंधक की मदद से आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए आपको पहचान पत्र, जाति प्रमाण पत्र, देने होंगे। महिलाओं के जाति प्रमाण पत्र नहीं देना होगा। इसके साथ ही लोन आवेदक को एक प्रोजेक्ट रिपोर्ट भी देनी होगी।

सबोर्डिनेट ऋण योजना

इस योजना के तहत बिना गारंटी दिए लोन मिलेगा और आप कारोबार शुरू कर सकते हैं। भारत सरकार ने एमएसएमई यानी सूक्ष्म लघु एवं मझोले उद्योगों को प्रोत्साहन देने के लिए इस नई योजना की शुरुआत की है। इसमें अगर बैंक आपका बिजनेस प्रोजेक्ट पास कर देता है तो उस पर बैंक गारंटी देने की बाध्यता खत्म हो जाती है। सरकार ने इस योजना के लिए करीब 20 हजार करोड़ रुपये का बजट रखा है। योजना से 2 लाख एमएसएमई इकाइयों को लाभ मिल पाएगा।

प्रधानमंत्री पथ विक्रेता आत्मनिर्भर निधि कार्यक्रम

इस योजना के तहत शहरी पथ व्यावसायियों यानी स्ट्रीट वेंडर्स को कार्यशील पूंजी के रूप में बैंकों से 10 हजार रुपए का लोन उपलब्ध कराया जाएगा। योजना का लाभ देने के लिए निगम मुख्यालय और जोनल कार्यालयों पर तथा निगम की टीम द्वारा भी फार्म लेकर पोर्टल पर पंजीयन करने का कार्य किया जा रहा है। पंजीयन के लिए व्यक्ति का आधार कार्ड हो तथा आधार कार्ड से मोबाइल नंबर जुड़ा हो। वहीं, समग्र आईडी के साथ सेविंग खाते की पासबुक आवश्यक है।  

Posted By: Vineet Sharan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस