नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। दिवाली रोशनी का त्यौहार कहा जाता है और इसे पैसे कमाने के लिए एक शुभ अवसर भी माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि दिवाली के दौरान किया गया निवेश निवेशकों को बेहतर रिटर्न देता है। इक्विटी से लेकर फिक्स्ड डिपॉजिट तक ऐसे काफी सारे निवेश विकल्प हैं जो आपको बेहतर रिटर्न दे सकते हैं। हम अपनी इस खबर में आपको विस्तार से जानकारी दे रहे हैं कि आप इस दिवाली किन निवेश विकल्पों में अपना पैसा लगा सकते हैं।

फिक्सड डिपॉजिट: निवेश के लिहाज से ये सबसे सामान्य और बेहतरीन विकल्प माना जाता है। यह सेविंग अकाउंट की तुलना में ज्यादा बेहतर ब्याज दर मुहैया करवाता है। यह छोटी अवधि के लिए आपकी पैसों की जरूरत को पूरा करने में मददगार माना जाता है। यह सात दिन से लेकर 10 साल तक के लिए होती है जहां पर आपको 3.50 फीसद से लेकर 7.50 फीसद तक का ब्याज हासिल हो सकता है। वहीं सीनियर सिटीजन को कुछ अन्य लाभ मिलते हैं।

रेकरिंग डिपॉजिट: यह भी निवेश का एक उम्दा विकल्प माना जाता है। यहां पर आप मासिक आधार पर निवेश कर सकते हैं एक निश्चित अवधि बीत जाने के बाद एक अच्छी खासी रकम छोड़ सकते हैं। छोटी सेविंग और नियमित निवेश वालों के लिए यह एक अच्छा विकल्प है। पोस्ट ऑफिस की पांच वर्षीय रेकरिंग डिपॉजिट पर 7.3 फीसद की दर से ब्याज मिलता है।

इक्विटी में निवेश: अगर आप लंबी अवधि के इरादे से निवेश करना चाहते हैं तो स्टॉक मार्केट में निवेश करना बेहतर माना जाता है। अगर आप 3 से 5 वर्षों के लिए निवेश करना चाहते हैं तो यह आपके लिए सही प्लेटफॉर्म है। यह बाजार में उपलब्ध अन्य विकल्पों की तुलना में बेहतर रिटर्न देता है।

म्युचुअल फंड्स: सबसे बेहतर निवेश विकल्प कुछ डाइवर्सीफाइड म्युचुअल फंड्स को चुनना और उनमें निवेश करना माना जाता है। यह आपके निवेश को बढ़ाने के साथ साथ जरूरत के वक्त आपकी नकदी की जरूरत को भी पूरा करता है। हालांकि साल 2018 में कुछ म्युचुअल फंड्स ने बेहतर प्रदर्शन नहीं किया है लेकिन आने वाले कुछ महीने इसके लिए बेहतर हो सकते हैं। एक्सपर्ट्स मानते हैं कि जिन्होंने साल 2018 में म्युचुअल फंड में अपना निवेश किया है उन्हें फिलहाल अपने निवेश को बनाए रखना चाहिए।

सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (सिप): इस दिवाली आप सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान को चुन सकते हैं। लंबी अवधि के निवेश के लिहाज से सिप सबसे बेहतरीन विकल्प माना जाता है इसमें आप 500 रुपये से मासिक निवेश की शुरुआत कर सकते हैं जिसे बाद में बढ़ाया भी जा सकता है। इसमें किए जाने वाले निवेश पर अमूमन 12 से 18 फीसद तक का रिटर्न मिल सकता है। यह अन्य विकल्पों की तुलना में सबसे बेहतरीन माना जाता है।

एक्सचेंज ट्रेडेट फंड: यह भी म्युचुअल फंड सरीखा होता है लेकिन इसमें स्टॉक की तरह ट्रेडिंग होती है। एक्सचेंज ट्रेडेड फंड या ईटीएफ आमतौर पर म्युचुअल फंड के समान ही होते हैं। म्यूचुअल फंड की तरह ही यह कई शेयरों का बंडल होता है जिनमें निवेशक निवेश करता है। यह निवेशकों को विविधता भरा पोर्टफोलियो उपलब्ध कराता है। ईटीएफ में शेयरों का सृजन वस्तु के रूप में हुए सौदे की तरह होता है जो सामान्य बिक्री नियमों के दायरे में नहीं आते। इसलिए ये टैक्स दायरे से बाहर रहते हैं।

पीपीएफ: पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) देश में निवेश के लिहाज से सबसे बेहतर विकल्प माना जाता है। खासकर के नौकरीपेशा लोगों के लिए यह पसंदीदा विकल्प होता है। लोगों के बीच इसके पापुलर होने का कारण इस पर लगातार बढ़ती ब्याज दर और टैक्स फ्री रिटर्न है। साल 2018 में इस पर 8 फीसद की दर से ब्याज दिया जा रहा है जो कि बाजार में उपलब्ध अन्य निवेश विकल्पों की तुलना में काफी ज्यादा है। वहीं पोस्ट ऑफिस के पीपीएफ पर भी 8 फीसद का ब्याज मिल रहा है।

Posted By: Praveen Dwivedi