नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। निवेश और रिटर्न के लिहाज से फिक्स्ड डिपॉजिट को एक बेहतर विकल्प माना जाता है। फिक्स्ड डिपॉजिट की सुविधा बैंक और पोस्ट ऑफिस दोनों ही देते हैं। अगर आप यह जानना चाहते हैं कि बैंक और पोस्ट ऑफिस की एफडी में से कौन ज्यादा बेहतर है तो यह खबर आपके काम की है। हम अपनी इस खबर में आपको एसबीआई की ओर से उपलब्ध करवाई जाने वाली एफडी और पोस्ट ऑफिस की एफडी के बीच तुलना करके बता रहे हैं कि इन दोनों में से आपके लिए कौन ज्यादा बेहतर है।

फिक्स्ड डिपॉजिट चाहे बैंक की ओर से उपलब्ध करवाई जाए या फिर पोस्ट ऑफिस से दोनों ही निवेश और रिटर्न के लिहाज से व्यवहारिक होती हैं। यह उन निवेशकों के लिए बेहतर विकल्प होता है जो अपने पैसे खोने का जोखिम उठाना पसंद नहीं करते हैं। एफडी में निवेशकों को एक निश्चित रिटर्न उपलब्ध करवाया जाता है। वहीं बाजार में कुछ टैक्स सेविंग एफडी भी उपलब्ध होती हैं जो कि आपको आयकर की धारा 80सी के अंतर्गत टैक्स छूट का फायदा देती हैं। वहीं बैंक और पोस्ट ऑफिस की ओर से उपलब्ध करवाई जाने वाली एफडी में से आप मैच्योरिटी से पहले भी कुछ पैसों की निकासी कर सकते हैं हालांकि यह निकासी कर के दायरे में आ जाती है।

पोस्ट ऑफिस टर्म डिपॉजिट इंटरेस्ट रेट: निवेश इंडिया पोस्ट (भारतीय डाकघर) की ओर से उपलब्ध करवाई जाने वाली फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम में भी निवेश कर सकते हैं। निवेशक यहां पर इंडीविजुअल और ज्वाइंट फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट खुलवा सकते हैं। निवेशक इसके लिए इंडिया पोस्ट की वेबसाइट पर जाकर जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं।

एसबीआई फिक्स्ड डिपॉजिट पर मिलने वाली ब्याज दरें: एसबीआई ने मार्च 2018 में एफडी पर मिलने वाली ब्याज दरों में संशोधन किया है। देश के सबसे बड़े कर्जदाता के रुप में शुमार एसबीआई 1 करोड़ रुपए से कम की जमा पर 10 साल तक की अवधि वाले फिक्स्ड डिपॉजिट पर 5.75 फीसद से 6.75 फीसद की दर से ब्याज दर मुहैया करवाता है। वहीं सीनियर सिटीजन के लिए यह ब्याज दर थोड़ी ज्यादा है।

Posted By: Praveen Dwivedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस