नई दिल्ली, बिजनेस डेस्‍क। अगर आप अपना निवेश सुरक्षित रखकर अधिक मुनाफा कमाना चाहते हैं, तो पोस्ट ऑफिस में फिक्स्ड डिपॉजिट करना आपके लिए एक बेहतर ऑप्शन होगा। डाकखाने में एफडी (FD) कराने पर आपको कई खास सुविधाएं मिलती हैं। साथ ही सरकार खुद गारंटी देती है कि डाकघर में आपका पैसा पूरी तरह से सुरक्षित है। बैंकों की तुलना में पोस्ट ऑफिस में एफडी (FD) कराना फायदे का सौदा हो गया है। बैंकों के मुकाबले पोस्‍ट ऑफिस के एफडी पर अभी ज्‍यादा ब्‍याज मिल रहा है। बैंक फिलहाल फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट पर अधिकतम 6.50 प्रतिशत का ब्‍याज दे रहे हैं, वह भी वरिष्‍ठ नागरिकों को। 

पोस्ट ऑफिस में एफडी (FD) के फायदे

  • भारत सरकार आपको डाकघर में एफडी जमा पर गारंटी देती है।
  • इसमें निवेशकों का पैसा पूरी तरह से सुरक्षित है।
  • डाकघर में एफडी (FD) ऑफलाइन (नकद, चेक) और ऑनलाइन (नेट बैंकिंग/मोबाइल बैंकिंग) से कर सकते हैं।
  • पोस्ट ऑफिस में आप 1 से ज्यादा एफडी (FD) करवा सकते हैं।
  • आपका एफडी (FD) अकाउंट ज्वाइंट हो सकता है।
  • पोस्ट ऑफिस में अगर आप 5 साल के लिए फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) करते हैं, तो आईटीआर (ITR) फाइल करते समय टैक्स में छूट भी मिलती है।
  • एफडी (FD) को एक पोस्ट ऑफिस से दूसरे पोस्ट ऑफिस में ट्रांसफर कराने की भी सुविधा मिलती है।

चेक या कैश देकर खुलवा सकते हैं खाता

पोस्ट ऑफिस में एफडी (FD) के लिए आप चेक या कैश देकर खाता खुलवा सकते हैं। खाता खोलने के लिए न्यूनतम राशि 1000 रुपये है, जबकि अधिकतम राशि की कोई सीमा निर्धारित नहीं है।

पोस्‍ट ऑफिस एफडी (FD) पर 6.70 प्रतिशत तक का ब्‍याज

पोस्‍ट ऑफिस एफडी (FD) पर मिलने वाले ब्याज की बात करें तो यह 7 दिन से लेकर एक साल तक की एफडी (FD) पर 5.50 फीसदी ब्याज देता है। 1 साल 1 दिन से 2 साल की FD पर भी समान ब्याज दर है। 3 साल तक की FD पर 5.50 फीसदी की दर से ब्याज भी मिलता है। वहीं, 3 साल एक दिन से लेकर 5 साल तक की FD पर 6.70 प्रतिशत का उच्‍च ब्‍याज मिलता है।

अकाउंट ट्रांसफर कराने की सुविधा

इसके अलावा ग्राहकों को अकाउंट ट्रांसफर करने की भी सुविधा मिलती है। आप एफडी (FD) को अपने नजदीकी ऑफिस में ट्रांसफर कर सकते हैं। इसके अलावा नॉमिनी को जोड़ने या बदलने की सुविधा भी दी गई है। खाता खुलने के बाद भी आप नॉमिनी को जोड़ या बदल सकते हैं। 

Edited By: Manish Mishra