नई दिल्ली (जेएनएन)। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज संसद में मोदी सरकार का अंतिम पूर्ण बजट पेश किया। इस बजट में जहां गांव, किसान और गरीब तबके को कई तरह से राहत मिली है वहीं वरिष्ठ नागरिकों को भी सरकार ने राहत प्रदान की है।

वरिष्ठ नागरिकों को राहत देते हुए सरकार ने बैंकों और डाकघरों में उनकी जमा राशि पर ब्याज से हुई आमदनी पर छूट को 10,000 रुपये से बढ़ाकर 50,000 रुपये कर दिया है।  वैसे ही गंभीर बीमारियों के इलाज पर एक लाख रुपए तक के खर्च पर इनकम टैक्स से राहत दी गई है। इसके अलावा 194ए के तहत टीडीएस काटने की आवश्यकता नहीं होगी। सभी सावधि जमा (एफडी) और आरडी से मिले ब्याज पर भी इसका लाभ मिलेगा।धारा 80डी के अंतर्गत स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम या चिकित्सा व्यय हेतु कटौती सीमा को 30 हजार रुपए से बढ़ाकर 50 हजार रुपए कर दिया गया है। 

2020 तक जारी रहेगी प्रधानमंत्री वय वंदना योजना

बजट में वरिष्ठ नागरिकों के लिए वित्त मंत्री ने प्रधानमंत्री वय वंदना योजना की अवधि मार्च 2020 तक बढ़ाने की घोषणा की है। इसमें मौजूदा निवेश सीमा 7.5 लाख रुपये प्रति वरिष्ठ नागरिक को बढ़ाकर 15 लाख रुपये करने का प्रस्ताव किया गया है। इस योजना के तहत भारतीय जीवन बीमा निगम द्वारा 8 प्रतिशत निश्चित प्रतिलाभ प्रदान किया जाता है। अब सभी वरिष्ठ नागरिक किसी स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम या किसी चिकित्सा के संदर्भ में 50 हजार रुपए प्रतिवर्ष तक कटौती के लाभ का दावा कर सकेंगे।

By Kishor Joshi