नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। आप लोगों ने बीमा पॉलिसी लेते वक्त कई बार टर्म इंश्योरेंस शब्द का जिक्र सुना होगा और अगर आप टर्म इंश्योरेंस प्लान खरीदने जा रहे हैं, तो आपके पास इससे जुड़ी कुछ बेसिक जानकारी का होना काफी जरूरी है। अक्सर ही लोग टर्म इंश्योरेंस और नार्मल इंश्योरेंस में अंतर नहीं कर पाते हैं। लेकिन आपको बाता दें कि टर्म इंश्योरेंस और नार्मल इंश्योरेंस में कुछ बुनियादी अंतर होते हैं। यहां पर हम आपको टर्म इंश्योरेंस से जुड़ी बेसिक जानकारियों के बारे में बताने जा रहे हैं।

क्या है टर्म इंश्योरेंस

टर्म इंश्योरेंस, लाइफ इंश्योरेंस(जीवन बीमा) का ही एक प्रकार है। टर्म इंश्योरेंस आने वाली अनिश्चितताओं के खिलाफ हमें, एक विस्तृत आर्थिक सुरक्षा प्रदान करता है। जीवन बीमा लेने का सबसे आसान तरीका टर्म इंश्योरेंस ही है। इसके तहत बीमा लेने वाले व्यक्ति को, एक निश्चित समय तक प्रीमियम का भुगतान करना होता है। अगर निश्चित अवधि के दौरान, बीमाधारक की मृत्यु हो जाती है तो सम एश्योर्ड या एक मुश्त रकम उसके परिवार या नॉमिनी को मिलती है।

क्या फायदे हैं इसके

टर्म प्लान एक ऐसी इंश्योरेंस पॉलिसी है जो आपको जरूर खरीदनी चाहिए, क्योंकि इसमें आपको बेहद कम कीमत पर बड़ा कवरेज मिलता है। इसके अलावा टर्म प्लान आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80 C के तहत शामिल पॉलिसी की लिस्ट में आता है, इसलिए इसके ग्राहकों को कर संबंधी फायदे भी मिलते हैं। इसके साथ ही कई सारी बीमा कंपनियां आकस्मिक खर्चों के दौरान ग्राहकों को कवरेज में सुधार का मौका भी देती हैं।

लंबे समय तक सुरक्षा का लाभ

टर्म लाइफ इंश्योरेंस से आपको और आपके परिवार को जीवन के सभी उतार चढ़ाव में एक, बेहतर वित्तीय सहायता मिलती है। आप 100 साल की उम्र तक होल लाइफ कवर के बीमा का चुनाव कर सकते हैं। इससे आकस्मिक खर्चों के समय आपको और आपके परिवार को वित्तीय स्थिरता हासिल होती है। इसके अलावा कई सारे टर्म इंश्योरंस प्लान कुछ खास तरह के ऐड ऑन बेनिफिट्स जैसे कि, एक्सीडेंटल कवर, क्रिटिकल इलनेस कवर आदि की पेशकश करते हैं, जिन्हें आप जरूरत के हिसाब से बेस प्लान में जोड़ सकते हैं।

Edited By: Abhishek Poddar