नई दिल्ली, ब्रांड डेस्क। हमारा जीवन आसान और अच्छे तरीके से बीते, इसके लिए हम भविष्य की योजना बनाते हैं। बच्चों की शिक्षा, शादी और खुद के रिटायरमेंट के लिए हम बचत और निवेश करते हैं। हमारे जाने के बाद परिवार में किसी को दिक्कत न हो, इसलिए हम अपने जीवन का बीमा करवाते हैं। ठीक उसी तरह मेडिकल इमरजेंसी की स्थिति का सामना करने के लिए हम स्वास्थ्य बीमा करवाते हैं। मेडिकल इमरजेंसी कभी भी आ सकती है, यह बात हमें कोरोना महामारी ने अच्छी तरह से समझा दिया है, और जब व्यक्ति अस्पताल में भर्ती होगा, तो बेड और दवाइयों का बढ़ता खर्च उसकी बेचैनी को बढ़ा देते हैं। ऐसे में यहां स्वास्थ्य बीमा यानी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी का महत्व बढ़ जाता है। आइए जानते हैं कि किसी व्यक्ति के लिए एक हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी का महत्व क्या है।

बदलती जीवनशैली

समय के साथ-साथ लोगों की जीवनशैली में काफी बदलाव आया है। कंप्यूटर और इंटरनेट के आने के बाद हमारा काम करने का तरीका बदला है। एक ही सीट पर हम कई-कई घंटे बैठे रहते हैं, जिसकी वजह से शरीर में रोग उत्पन्न हो रहा है। इसके अलावा तनाव से भरा काम, ज्यादा फास्ट फूड का सेवन और बढ़ते प्रदूषण ने भी शरीर में कई रोगों को जन्म दिया है। शरीर रोगों से कब भर जाए, कोई नहीं जानता, इसलिए अपने स्वास्थ्य की देखभाल करना बहुत जरूरी है। साथ ही, मेडिकल इमरजेंसी आने पर आपके लिए एक हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी बहुत ही फायदेमंद हो सकता है, क्योंकि इससे आप सही समय पर अपना बेहतर इलाज करवा सकते हैं।

कंपनी की तरफ से मिलने वाला मेडिकल कवर पर्याप्त नहीं

कंपनी की तरफ से मिलने वाला मेडिकल कवर आपके लिए एक अतिरिक्त कवर हो सकता है, लेकिन यह आपके लिए पूर्ण हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी नहीं है। एक हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में कई तरह की सुविधाएं मिलती है जैसे प्री-पोस्ट हॉस्पिटलाइजेशन, कैशलेस हॉस्पिटलाइजेशन, ज्यादा समय के लिए ज्यादा कवर आदि। कंपनी की तरफ से मिलने वाले मेडिकल कवर में इस तरह की सुविधाएं बहुत कम देखने को मिलती है। इसमें आपको मेडिकल कवर बहुत कम मिलता है, और इसकी वैधता भी तब तक होती है जब तक आप कंपनी में है। कंपनी छोड़ने के बाद वैधता भी खत्म हो जाती है।

अस्पताल और दवाइयों के खर्चे हैं बहुत ज्यादा

कहा जाता है कि अस्पताल के चक्कर लगाने वाला व्यक्ति अपनी कुल जमा पूंजी खत्म कर देता है। अस्पताल में भर्ती और सर्जरी के खर्चे तेजी से बढ़ रहे हैं। आज के समय में अस्पताल, दवाइयों और मेडिकल कोस्ट इतना बढ़ चुका है कि आपकी सेविंग भी कम पड़ेगी। अगर आप या आपका परिवार हेल्थ इंश्योरेंस करा लेते हैं, तो आप बहुत हद तक अपनी गाढ़ी कमाई को बचा सकते हैं। क्योंकि मेडिकल इमरजेंसी या कोई बीमारी की स्थिति में आपकी सर्जरी, दवाइयों और अस्पतालों का खर्चा इंश्योरेंस कंपनी उठाएगी।

गंभीर बीमारियों में हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी जरूरी

गंभीर बीमारियों में शुरुआती टेस्ट ही काफी महंगे होते हैं। इसके अलावा मरीज को OPD शुल्क और एम्बुलेंस के खर्चों को भी वहन करना पड़ता है। छोटी-मोटी बीमारियों के खर्चे को आप वहन तो कर सकते हैं, लेकिन जब बात बड़ी या गंभीर बीमारियों की आती है, तो यहां हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी का महत्व बढ़ जाता है। इसका फायदा यह है कि हॉस्पिटलाइजेशन की स्थिति में इसमें लगभग सभी तरह के खर्चे शामिल हो जाते हैं।

टैक्स में छूट

हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी न केवल हेल्थ कवर देती है, बल्कि और भी दूसरे फायदे देती है। अगर आप उन आय वर्ग में शामिल हैं, जिन्हें अपनी आय का कुछ हिस्सा टैक्स के रूप में सरकार को देना होता है, तो आप हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के जरिए इनकम टैक्स एक्ट 80D के तहत टैक्स में छूट प्राप्त कर सकते हैं। टैक्स में छूट कितना मिलेगा यह आपके हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के लिए दिये जाने वाले प्रीमियम पर निर्भर करेगा।

आज के समय में स्वास्थ्य को लेकर जिस तरह की चुनौतियां बढ़ रही है, उससे देखते हुए हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी का महत्व और भी ज्यादा बढ़ जाता है। अब परिवार में हर सदस्य को हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेने पर विचार करना चाहिए। बात जब हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी की हो रही है तो सही प्लेटफॉर्म से सही पॉलिसी का चुनाव करना बहुत ही जरूरी है। इस मामले में रिलायंस जनरल इंश्योरेंस ने लोगों के भरोसे को बरकरार रखा है। यहां आपको हर तरह की इंश्योरेंस पॉलिसी मिल जाएगी। आप अपनी जरूरत के मुताबिक इसे ऑनलाइन या ऑफलाइन खरीद सकते हैं। यहां आपको पॉलिसी पर ज्यादा कवर, ज्यादा फायदे और डिस्काउंट मिलता है।

अगर आप एक अच्छी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेने के बारे में सोच रहे हैं तो आप रिलायंस जनरल इंश्योरेंस की हेल्थ गेन इंश्योरेंस पॉलिसी ले सकते हैं। यह पॉलिसी दुर्घटना या अचानक उभर आई बीमारी को ठीक करने में लगने वाले खर्च की पूर्ति का भरोसा देती है। यह पॉलिसी पॉलिसीधारक के हॉस्पिटल में एडमिट होने से पहले लगने वाली मेडिकल खर्च को कवर करती है। इसके अलावा यह पॉलिसी हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होने के बाद जांच में सामने आई बीमारी को ठीक करने में लगने वाले खर्च को भी कवर करती है। इसमें 7300+ कैशलेस हॉस्पिटलाइजेशन की सुविधा मिलती है। खास बात यह है कि इसमें Covid ट्रीटमेंट का खर्च भी शामिल है। लो प्रीमियम के साथ आप इस पॉलिसी को शुरू कर सकते हैं। इसके कवर में अस्पताल के खर्चे, प्री-पोस्ट हॉस्पिटलाइजेशन, डोमेस्टिक रोड एम्बुलेंस, अंग दान देने वाले का खर्चा आदि शामिल है। हेल्थ गेन इंश्योरेंस पॉलिसी 15% डिस्काउंट के साथ आती है और ​इस पर 80D के तहत टैक्स में भी छूट मिलती है।

(यह आर्टिकल ब्रांड डेस्‍क द्वारा लिखा गया है)

Edited By: Pawan Jayaswal