नई दिल्‍ली, Kishor P Ostwal। Nifty 15900 अंक के नए शिखर को छू चुका है। अब कुछ समय की बात है। TCS, Infosys और Wipro ने बाजार का ट्रेंड बदल दिया है। ये कंपनियां न सिर्फ IT Sector को दिशा दे रही हैं बल्कि पूरा बाजार इनके अधीन है। सभी जानते हैं कि कारोबारी साल 2022 के Q1 के नतीजे FY21 के Q4 के नतीजों को मात दे देंगे। ये लगभग हर सेक्‍टर ऑटो, सीमेंट और मेटल में होगा।

Iron Ore के दाम चढ़े

याद करिए जब चीन ने कहा था कि वह मेटल रिजर्व खदानें खोल रहा है तो Iron ore की कीमतें 213 डॉलर प्रति टन से बढ़कर 216 डॉलर प्रति टन पर पहुंच गई थीं। तभी मैंने कहा था कि कीमतें और ऊपर जाएंगी। शुक्रवार की ही बात लीजिए जब Iron ore की कीमतें 219 डॉलर प्रति टन पर पहुंच गईं, जो चीन के ऐलान के बाद उछले दामों से कहीं ज्‍यादा है। जल्‍द ही ये कीमतें 235 डॉलर प्रति टन को पार कर जाएंगी। एक विदेशी ब्रोकरेज हाउस ने इस हफ्ते अलर्ट जारी किया है कि Iron ore की कीमतें 30 फीसद तक उछलेंगी। पश्चिमी देश 40 फीसद माइनिंग टैक्‍स लगाने वाले हैं, जिससे भारतीय मेटल कंपनियों के पास दाम बढ़ाने का मौका आएगा। यह मेटल शेयरों में हमारी दिलचस्‍पी को बढ़ाने वाला है।

NMDC के शेयरों में उछाल

NMDC का OFS 165 रुपए प्रति शेयर पर आया था। मैंने कहा था कि इस मौके को भुनाना चाहिए और NMDC हाल में 179 रुपए पर बंद हुआ है। पहली तिमाही के नतीजे आने के बाद ये स्‍टॉक और चढ़ेगा। कुछ विश्‍लेषकों ने इसकी कीमत 30 से 50 रुपए तक बढ़ने की बात कही है। ऐसा होता है तो यह फायदे की बात होगी। NMDC ने 18500 करोड़ रुपए का निवेश किया है और 4500 करोड़ रुपए और खर्च करेगी। यानि कुल 23000 करोड़ रुपए का निवेश होगा। एनालिस्‍ट को लगता है कि NMDC 9000 करोड़ रुपए में बिकेगी। लेकिन मैं यह बताना चाहता हूं कि यह Holding subsidiary केस नहीं है। NCLT को अगर लगेगा तभी वह कुछ फैसला लेगा। मायने यह हुए कि सरकार ही NMDC Steel की प्रमोटर बनी रहेगी। NMDC Steel की लिस्टिंग 75 रुपए से ऊपर होगी और अगर कुछ प्रीमियम लें तो 98 रुपए। इस तरह होल्डिंग सब्सिडियरी का 50 फीसद वैल्‍युएशन यहां अप्‍लाई नहीं होता। एक अलग स्‍टोरी में हमने FY22 के तिमाही नतीजों का अनुमान लगाया था। इसमें कंपनी का PAT FY 22 में 26000 करोड़ रुपए रह सकता है, यानि आपको Ore बिजनेस 81 रुपए में मिल रहा है।

Zomato का इश्‍यू

Zomato के इश्‍यू के साथ 3.75 लाख करोड़ रुपये ब्लॉक हो गए हैं और फिर भी यह बाजार को प्रभावित नहीं कर रहा है, जो इस बाजार की तरलता को दर्शाता है। रिलायंस रिटेल ने एलआईसी के बाजार में आने से पहले आईपीओ की घोषणा की है। Zomato अभी तक केवल एक वैल्यूएशन गेम है और कंपनी प्रति शेयर कमाई नहीं कर रही है और लोगों का काफी आकर्षण भी है, इससे आगे खतरा हो सकता है। किसी भी मामले में, इस तरह के मूल्यांकन को देखते हुए, हमें लगता है कि बीएसई (हमने एक मूल्यांकन नोट जारी किया है) सिर्फ 5000 करोड़ रुपये के मार्केट कैप पर एक बेहतर स्टॉक है। हालांकि मेरी राय के बाद बीएसई में 33% की वृद्धि हुई, फिर भी मैं मानता हूं कि यह मौजूदा बाजार मूल्य 1200 रुपये पर बहुत सस्ता है और निश्चित रूप से हमारे 5000 रुपये के पहले लक्ष्य की ओर बढ़ रहा है।

मर्जर और अधिग्रहण में तेजी

आईपीओ के अलावा, बाजार में विलय और अधिग्रहण में तेजी आना भी देखा गया है। Pharmeasy ने लगभग 4600 करोड़ रुपये में थायरोकेयर का अधिग्रहण किया और कई और विलय, डीमर्जर और अधिग्रहण हो रहे हैं जैसे कि बाद के लिए कुछ बचेगा ही नहीं। रिलायंस ने जस्ट डायल का अधिग्रहण किया। हियरिंग स्टारबक्स और लार्सन भी कुछ अधिग्रहण कर रही हैं। यह स्पष्ट रूप से बताता है कि कॉर्पोरेट भारत दौड़ती बस की सवारी करने की जल्दी में है क्योंकि वे जानते हैं कि 4 से 5 वर्षों के लिए रोमांचक समय है, यह 10 साल भी हो सकते हैं। इसे ध्यान में रखते हुए और निफ्टी के लिए मेरा प्रेडिक्‍शन 30000 (4 वर्षों में) जबकि कुछ अन्य अनुभवी लोगों को लगता है Sensex 3 लाख (10 वर्षों में) पर पहुंच जाएगा। ऐसे में मेरा सुझाव है कि आप अपने निवेश की योजना बनाएं और कमाई के मौके को न चूकें।

तिमाही नतीजेे बदलेंगे चाल

हमारा मानना ​​है कि पहली तिमाही के नतीजों के बाद कई शेयर नई ऊंचाई पर पहुंचेंगे क्योंकि वे बाजार के अनुमानों को मात देने वाले हैं। हमारा मानना ​​है कि पिछले 2 से 3 महीनों से कंसॉलिडेशन मोड में रहे लार्ज कैप स्टॉक्स नतीजे के साथ आगे बढ़ना शुरू करेंगे। स्मॉल और मिड कैप में हम मैड स्क्रैम्बल के बजाय स्टॉक स्पेसिफिक को प्राथमिकता देते हैं। हमें एमके एक्जिम के जैसे शेयरों को चुनना चाहिए, जो 10 बैगर हो सकते हैं क्योंकि बिजनेस मॉडल बहुत मजबूत है और मौजूदा बाजार मूल्य पर भी वैल्यूएशन बहुत सस्ता है। ऐसे स्टॉक आपके जीवन में केवल एक बार ही आते हैं। हम ऐसे जेम्‍स को खोजने की निरंतर प्रक्रिया में हैं। हमने एल्प्रो इंटरनेशनल को 53 रुपये में पाया था और स्टॉक कुछ ही समय में 70 रुपये तक पहुंच गया था। सभी शोध नोट हमारी वेबसाइट www.cniresearchltd.com पर उपलब्ध हैं।

टाटा पावर में लगा सकते हैं रकम

टाटा पावर ने एचपीसीएल के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं, जिसमें 18000 पेट्रोल पंप हैं, जहां टाटा पावर द्वारा इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन स्थापित किए जाएंगे। भेल दुनिया का सबसे बड़ा इलेक्ट्रिक वाहन बैटरी प्लेयर बन जाएगा। टाटा पावर बहुत जल्द 100 गीगावॉट की ग्रीन पावर कंपनी बन जाएगी। इस सेक्टर में टाटा पावर टाटा मोटर्स की तरह आगे बढ़ेगी। इस स्टॉक को लंबे समय तक रखें।

(लेखक CNI RESEARCH LTD के सीएमडी हैं। छपे विचार उनके निजी हैं।)