नई दिल्ली, किशोर ओस्तवाल। निफ्टी ने 14,390 और एसजीएक्स निफ्टी ने 14456 का स्तर छुआ है, जो कि हमारे लक्ष्य 14,500 से थोड़ा ही कम है। यहां 14800 से 15000 तक और उछाल आ सकती है, लेकिन हमें ना सिर्फ सतर्क रहने की जरूरत है, बल्कि शेयरों के चुनाव में  भी बहुत चयनात्मक रहने की जरूरत है। इस समय हम शॉर्ट करने की सलाह भी नहीं देंगे। हां, कुछ हैज अब होना चाहिए। उन सब शेयरों से बचें, जो बहुत तेजी से बढ़े हैं। इन शेयरों में 30 फीसद गिरावट आ सकती है और इसलिए ऐसे शेयरों को लेना अब आत्मघाती होगा। आइए अब हम आंकडों का विश्लेषण करते हैं, जो बाजार के लिए सबसे अधिक महत्वपूर्ण हैं।

ब्लूमबर्ग के अनुसार, निफ्टी पीई 35.69 है, जबकि सीएनआई के अनुसार, यह 28.55 है, जिसका मतलब है कि हम अब खतरे के क्षेत्र में प्रवेश कर रहे हैं। पिछली बार बाजार में गिरावट तब हुई थी, जब निफ्टी पीई 28.7 अंक पर पहुंच गया था और हम इस आंकड़े से दूर नहीं हैं। इसमें कोई संदेह नहीं है कि इस बार तरलता का मुद्दा नहीं है और इस बार QE और QE में भारत की हिस्सेदारी के चलते अभूतपूर्व इनफ्लो हुआ है।

मई 2020 से अब तक हम 33 बिलियन डॉलर का इनफ्लो देख चुके हैं। क्या यह जारी रहेगा ..? लंबी अवधि के आधार पर कहें तो हां, क्योंकि हमें अभी 30 से 50 बिलियन डॉलर का इनफ्लो और देखना है, लेकिन इससे पहले कुछ ठहराव आ सकता है। कुछ ठहराव का मतलब है कि बाजार इसे अन्यथा ले जाएगा और बियर्स चार्ज लेने की कोशिश करेंगे। केवल एक तरीका बाजार गिरावट के तर्क को धता बता सकता है। वे कहेंगे कि हम अभी 21 मार्च और 22 मार्च के पीई के बारे में बात कर रहे हैं और इसलिए बाजार एक्सपेंसिव नहीं है।

यदि हम आय में वृद्धि 18 फीसद लेते हैं, तो 28.55 पीई 24.19 हो जाएगा और तेजी के लिए अधिक अवसर खुलेंगे। हमने पहले ही कहा था कि अगर हम बाजार पूंजीकरण-जीडीपी विधि को फॉलो करते हैं, तो निफ्टी में उछाल 18800 तक भी जा सकती है। इसलिए इस समय हमें बाजार के साथ रहना चाहिए।

जनवरी 2021 के पहले 9 दिनों में FPI का इनफ्लो 4819 करोड़ रुपये रहा है। अब यह नवंबर, 2020 के 60000 करोड़ रुपये और दिसंबर 2020 के 62000 करोड़ रुपये से बहुत कम है। हालांकि, यह नकारात्मक नहीं है, यह नवंबर और दिसंबर के एफपीआई इनफ्लो की तुलना में कम आकर्षित कर रहा है, इसका मतलब है कि एक फरवरी को पेश होने वाले आम बजट से पहले एफपीआई सतर्कता बरत रहे हैं और बजट के बाद आगे की रणनीति तय करेंगे। इसलिए हम जनवरी, 2020 में एफपीआई से किसी अधिक खरीदारी की उम्मीद नहीं कर रहे हैं।

जहां तक ​​अगले सप्ताह का संबंध है, हम उछाल जारी रहते हुए देखते हैं और 5000 से 8000 करोड़ रुपये की खरीदारी 2 कारणों से आएगी। पहला यह कि यूएस में SएंडP इंडेक्स से 3 चीनी कंपनियों को हटा दिया गया था, जो MSCI इंडेक्स में भारत का वेटेज बढ़ाएगा, जिसमें 3000 से 4000 करोड़ रुपये की खरीदारी होने का अनुमान है। भारती, जिसे अब सहायक कंपनियों में 74% एफपीआई और 100% एफडीआई की अनुमति मिल गई है, उसमें 3000 से 4000 करोड़ रुपए तक की खरीदारी देखने को मिल सकती है। इसलिए निफ्टी सभी संभावनाओं में 14500 को पार कर जाएगा।

लेकिन आगे एक फरवरी, 2021 को एक बड़ा इवेंट है। इस दिन देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आम बजट पेश करेंगी। वित्त मंत्री खुद कह चुकी हैं कि यह 100 साल का सबसे अच्छा बजट होगा। हम निश्चित रूप से यह कह सकते हैं कि ये कुछ सुधार ही होंगे, इसके अलावा कुछ नहीं। लेकिन हमने अतीत में देखा है कि बजट का उपयोग अल्पावधि में बाजार में गिरावट लाने के लिए किया गया है और यह सभी प्रतिभागियों द्वारा स्पष्ट निराशाजनक प्रतिक्रिया के साथ आएगी। बाजार में गिरावट की आवश्यकता है और इसके लिए बजट से बेहतर कोई  बहाना नहीं है। अब सवाल यह है कि गिरावट कितनी होगी? हमारा मानना ​​है कि गिरावट निफ्टी में 10% और बैंक निफ्टी में 15% हो सकती है।

इस समय आपको लीवरेज से बचना होगा। अत्यधिक मूल्यवान और महंगे शेयरों को खरीदने से बचें, चाहे वो एचडीएफसी हो, इन्फोसिस हो या टीसीएस। ऐसे परिदृश्य में रक्षात्मक शैली अपनानी चाहिए। कई मिड कैप और स्माल कैप, जो 5 से 10 पीई पर ट्रेड कर रहे हैं, उन्होंने उछाल में भाग लेना शुरू कर दिया है और आपको वास्तव में अब वहां ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

उदाहरण के तौर पर हमने 34 रुपये कीमत पर KESORAM के शेयर की पहचान की थी। यह वर्तमान में 62 रुपये पर ट्रेड कर रहा है और अब ऑपरेटर्स इसमें प्रवेश कर रहे हैं। इस तरह हमारे फॉलोअर्स पहले ही 100 फीसद रिटर्न बना चुके हैं। हम सुझाव देंगे कि आप इस तरह के शेयरों में पैसा लगाएं, जहां आप मोटा पैसा कमा सकते हैं। हमारा मानना ​​है कि कपड़ा क्षेत्र बड़ी तेजी के लिए तैयार है।

इसलिए यदि आप टेक्सटाइल क्षेत्र के शेयरों की पहचान करते हैं, तो आपको बिना किसी जोखिम के बहुत बड़ा पैसा मिलेगा। अब हमने ALOK Industries की पहचान की है, जो RIL के स्वामित्व में है। इस शेयर ने 61 रुपये का उच्च स्तर देखा था। इसकी मौजूदा कीमत 23 रुपये है, जो निवेश के लिए बहुत सही है।

पिछले हफ्ते हमने  TINPLATE और HIMADRI के शेयर क्रमश: 152 और 38 रुपये के मूल्य पर सुझाए थे। इन दोनों शेयरों में 20 और 30 फीसद का उछाल आया है। अगर आप शेयर के 100 फीसद बढ़ जाने पर 50 फीसद की प्रोफिट बुकिंग की एप्रोच फॉलो करते हैं, तो आपकी लागत शून्य हो जाएगी। अब भले ही बाजार में गिरावट हो जाए और ये शेयर भी 20 से 30 फीसद गिर जाए, तो भी आपके पास अपनी पूंजी की सुरक्षा के लिए पर्याप्त मार्जिन उपलब्ध होता है।

इसलिए साल 2021 में बजट से ठीक पहले हम सुझाव देते हैं कि केवल BOTTOM UP दृष्टिकोण का अनुसरण करें, जो आपको बाजार में गिरावट आने पर कठिन समय से बचाएगा। साथ ही कुछ नकदी भी रखें, जिससे अगर बाजार में गिरावट आए, तो निवेश किया जा सके।

(लेखक सीएनआई रिसर्च के सीएमडी हैं। प्रकाशित विचार उनके निजी हैं।)

Edited By: Pawan Jayaswal